कफन कहानी के उद्देश्य

कफन कहानी के उद्देश्य

कफन कहानी के लेखक मुंशी प्रेमचंद्र जी हैं। अन्य कहानियों की तरह कफन कहानी के उद्देश्य कुछ अलग ही हैं। वे उद्देश्य क्या है आइए जानते हैं। सर्वप्रथम हम लोग कहानी के सारांश को कुछ पंक्तियों में जानेंगे। फिर इस कहानी को लिखने का उद्देश्य क्या था वह जानेंगे।

इस कहानी के तीन पात्र घीसू (पिता), माधव (पुत्र) तथा बुधिया इनकी पत्नी थीं। बुधिया का चरित्र मूक है। पूरी कहानी घीसू व माधव के इर्द गिर्द घूमती है। यह दोनों बहुत ही आलसी, कामचोर, शराबी, गैर जिम्मेदार पात्र थे। परिवार की आर्थिक स्थिति बहुत ही नाजुक थी। पिछले वर्ष ही माधव का विवाह बुधिया से हुआ था। बुधिया गर्भवती थी वह दर्द से कराह रही थी और इधर बाप बेटे भुंजे हुए आलू खा रहे थे।

बुधिया के पति उसे देखने इसलिए नहीं जा रहे थे कि कहीं उसके पिता वो आलू खा ना जाए। आलू खा जाने के बाद में वे दोनों वही सो जाते हैं। और सुबह उठकर देखते हैं। तो बुधिया मर चुकी होती है। अपनी पत्नी के कफन के लिए वह भीख मांग कर लाते हैं, जिसकी वह ठेके पर जाकर शराब पी लेते हैं। वे सोचते हैं कि पत्नी के कफन के लिए पड़ोसी खुद कुछ पैसों का इंतजाम करेंगे।

कफन कहानी के उद्देश्य

कफन कहानी के उद्देश्य

कफन कहानी के सारांश के अनुसार उसके प्रतिपाद्य अथवा उद्देश्य को निम्नलिखित शीर्षकों के माध्यम से रेखांकित किया गया है-

1. सामाजिक यथार्थ की प्रस्तुति

कफन कहानी एक यथार्थवादी कहानी है। प्रस्तुत कहानी में समाज में व्याप्त शोषण व्यवस्था व उनके दुष्परिणामों को सशक्त ढंग से अभिव्यक्त किया जाता है। माधव की तुम्हें अलसी पन निकम्मा पर दरिद्रता तथा भूख उनके इतने निम्न स्तर पर पहुंचा देती है। जहां एक सुंदर संपन्न और ऐश्वर्य पूर्ण जिंदगी का सपना चकनाचूर हो जाता है। सदियों के पेट की भूख ना उन्हें पशु तुल्य बना दिया है। वह आलसी कमजोर और निकम्मे हैं परंतु उनके पीछे शोषण की एक व्यवस्था कार्य करती है।

इससे बड़ा और क्या हो सकता है।कि घीसू और माधव को पता है कि बुधिया प्रसव वेदना से करा रही है परंतु वे दोनों आलू खाने के चक्कर में उसके पास जाने के लिए तैयार नहीं है। पेट की भूख ने उन्हें इतना अमित बना दिया है कि वे बुधिया के कफन के पैसों को भी शराब और खाने में उड़ा देते हैं। इस प्रकार यह कहानी सामाजिक यथार्थ को प्रस्तुत करने मैं पूर्णता सक्षम रही है। जो कि कफन कहानी के उद्देश्य का विशेष अंग है।

2. शोषण व्यवस्था का चित्रण

ईश्वर महादेव समाज में फैली शोषण व्यवस्था के शिकार हैं। भारतीय समाज में अगर घीसू और माधव काम ना करने के कारण भूखे मर रहे हैं तो यहां काम करने वालों की स्थिति भी अधिक अच्छी नहीं है।पूंजीवादी और समानता वादी व्यवस्था ने मनुष्यता को पशुता की ओर धकेल दिया है। लेखक के मतानुसार जिस समाज में रात दिन मेहनत करने वालों की हालात उनकी हालात से कुछ बहुत अधिक न थी।

किसानों के मुकाबले में वे लोग जो किसानों की दुर्लभ अदाओं के लाभ उठाना चाहते थे।कहीं ज्यादा संपन्न थे। वहां इस तरह के मनोवृति का पैदा होना कोई अचरज की बात ना थी। अगर वह फटे हाल हैं।तो कम से कम उसे किसानों की सीजी तोड़ मेहनत तो नहीं करनी पड़ती और उसकी सरलता और निधि हटा के दूसरे लोग तो फायदा नहीं उठाते।

इस प्रकार लेखक ने उपयुक्त कथन के माध्यम से पूंजीवादी व्यवस्था तथा उनके द्वारा किए जा रहे शोषण का पर्दाफाश किया है। आपका कफन कहानी के उद्देश्य पढ़ रहे हैं।

3. अंधविश्वास का चित्रण

भारतीय समाज अंधविश्वासों के मकड़जाल में फंसा हुआ है। लेखक ने कफन कहानी के माध्यम से इस मकड़जाल को तोड़ने की कोशिश की है। आसाम का शोषण व्यवस्था आम आदमी के अंधविश्वास को पुख्ता करती है। वे इसे मकड़जाल से बाहर नहीं निकल पा रहे हैं। बुधिया झोपड़ी में पड़ी हुई प्रसव वेदना से करा रही है। और माध्यम को संदेह हो रहा है।कि उस पर किसी चुड़ैल का प्रसाद हो गया है। घीसू आलू निकालकर खाते हुए कहा जाकर देख तो क्या दशा है? उसकी चुड़ैल का हिसाब होगा और क्या? यहां तो ओझा भी ₹1 मांगता है इस प्रकार चुड़ैल का प्रसाद और ओझा का ₹1 घीसू और माधव जैसे अंधविश्वासी और दरिद्र लोगों को सदैव भयभीत किए हुए हैं।

Sarkari Focus offers free online courses for various exams. We provide knowledge through articles, biographies, tests, news on results and events.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.