कबड्डी भारत का प्राचीन खेल

‘कबड्डी ‘ भारत का प्राचीन खेल है , जो आज भी लोगो मे अत्यंत लोकप्रिय है । यद्यपि आज अनेक प्रकार के खेल प्रचलित हैं जैसे – फुटबाल , हॉकी , वालीबॉल , टेबिल टेनिस , लॉन टेनिस , बेडमिंटन आदि । यद्यपि भारत में आज क्रिकेट का बोलबाला है । कभी समय था जब हॉकी को भारत का राष्ट्रीय खेल माना जाता था , पर आज सभी क्रिकेट के दीवाने हैं ।

पर मेरी दृष्टि से कबड्डी क्रिकेट से कहीं सरल तथा उपयोगी खेल है । सरल एवं उपयोगी खेल ; कबड्डी का खेल अत्यंत सरल , सस्ता तथा उपयोगी है । इसे खेलने के लिए लंबे , चौड़े मैदान तथा सामान की आवश्यकता नहीं पड़ती । इसे खेलना भी अत्यंत सरल है । कबड्डी के खेल से शरीर की माँसपेशियाँ मजबूत होती हैं तथा व्यक्ति स्वस्थ बना रहता है । इसे किसी भी छोटे से स्थान पर खेला जा सकता है ।

खेलने का ढंग :

खेल के मैदान के बीचों – बीच एक रेखा खींच दी जाती है जिसके दोनों ओर दो पाले बना दिए जाते हैं । पाले का एक खिलाड़ी ‘ कबड्डी – कबड्डी ‘ कहता हुआ दूसरे पाले में जाता है तथा साँस न रुकने तक किसी खिलाड़ी को छूकर अपने पाले में लौट आने का प्रयास करता है । यदि वह साँस टूटने से पूर्व अपने पाले में लौट आता है तो जितने खिलाड़ियों को छूकर वह आया था , वे सभी आउट मान लिए जाते हैं , पर यदि वह स्वयं अपने पाले तक साँस रहने तक नहीं लौट पाता , तो वह स्वयं आउट हो जाता है ।

इस प्रकार जो टीम अधिक अंक बटोर लेती है , वही जीती हुई मान ली जाती है । इस खेल में होने वाले मैच खिलाडी की उम्र और उसके वजन के अनुसार विभाजित होते हैं. इस खेल के दौरान खिलाड़ियों के अतिरिक्त मैदान में 6 औपचारिक सदस्य भी मौजूद् होते हैं. इन सदस्यों मे एक रेफरी, दो अंपायर, एक स्कोरर और दो असिस्टेंट स्कोरर भी होते हैं ।

कबड्डी मैदान का माप

पुरुषों के लिए (13X10 मीटर)
महिलाओं के लिए ( 12X8 मीटर)
कबड्डी खेल कितने मिनट का होता है- पुरुषों का 40 मिनट और महिलाओं का 30 मिनट का होता है।
कबड्डी का वजन मापदंड क्या है – सीनियर पुरुषों के लिए 85kg और सीनियर महिलाओं के लिए 75kg. जूनियर पुरुषों के लिए 70kg और जूनियर गर्ल्स के लिए 65kg है।

भारतीय परिवेश के अनुकूल

भारत एक निर्धन – देश है जहाँ के 70 प्रतिशत से भी अधिक लोग गाँवों में रहते हैं । गाँवों में खेल – कूद की अत्याधुनिक सुविधाएँ उपलब्ध नहीं हैं , इसलिए वहाँ कबड्डी का खेल सर्वोत्तम है । शहरों में भी जहाँ बड़े – बड़े मैदानों की कमी है , वहाँ कबड्डी का खेल खेला जा सकता है ।

कबड्डी का इतिहास

दोस्तो कबड्डी का इतिहास की शुरुआत 5000 से 7000 के पूर्व भारत में हुई थी ! इसकी शुरुआत का सटीक जानकारी तो नही पर माना जाता है कि दक्षिण भारत में इसकी शुरुआत हुई थी ! क्योंकि कबड्डी का शाब्दिक अर्थ काई पीडी से मिलकर बना है ! ये दो शब्द जिसका अर्थ होता है,” हाथ पकड़ना ” भारत अपने इस पारम्परिक खेल का बादशाह शुरुआत से ही रहा है ! दुनिया भर में इसकी पहचान दिलाई ! भारत इसके विश्व मुकाबले में विश्व विजेता भी रहा है ! फिर भी कुछ देश है, जो भारत को टक्कर दे सकते हैं ! हाल ही में उनमे से ईरान सबसे प्रमुख है !

इसे अलग अलग जगहों पर अलग अलग नामों से जाना जाता है !
दक्षिण भारत में इसे चेडूगुडू,पश्चिम भारत मे हू-तू-तू,पूर्वी भारत में हु डू डू और उत्तर भारत में इसे कबड्डी के नामों से जाना जाता है ! भारत के आलवा नेपाल, श्री लंका, बंगलादेश, पाकिस्तान, जापान और ईरान में भी यह काफी लोकप्रिय है ! ऐसा भी माना जाता है कि कबड्डी की शुरुआत 4000 वर्ष पूर्व सैनिकों को प्रतिरक्षा कौशल को विकसित करने ,आक्रमण करने,काउंटर अटैक से बचाव करने के लिए की गई थी !

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.