Saturday, February 27, 2021
Home गणित गणित शिक्षक का विद्यालय में क्या महत्व है?

गणित शिक्षक का विद्यालय में क्या महत्व है?

किसी भी राष्ट्र की शिक्षा को वहां के परिप्रेक्ष्य व संस्कृति से ही समझा जा सकता है। शिक्षा की प्रक्रिया में अध्यापक का स्थान महत्वपूर्ण होता है। अध्यापक की विद्यालय तथा शिक्षण प्रक्रिया की वास्तविक रूप से गत्यात्मक शक्ति है। अध्यापक ही समाज की रूढ़िवादी परंपराओं को शिक्षा के माध्यम से दूर करने की कोशिश करता है।

एक गणित के अध्यापक को विद्यालय की छवि को सुधारने व प्रतिष्ठा बनाने के लिए निम्न बातों का ध्यान रखना चाहिए।

1. अध्यापक को समय का पाबंद होना चाहिए, तभी वह विद्यार्थियों को भी समय पर बुला सकेगा और उन्हें समय की महत्ता सिखा सकेगा।
2. अध्यापक को बालक व बालिकाओं में आपसी सहयोग की भावना विकसित करनी चाहिए।3. पाठ्य सहगामी क्रियाओं खेलकूद आदि ने स्वयं भाग लेना तथा उसके लिए विद्यार्थियों को भी प्रेरित करना।
4. अध्यापक को विद्यार्थियों की व्यक्तिगत व सामाजिक समस्याओं के बारे में जानकारी रखनी चाहिए।
5. अध्यापक को समय सारणी के अनुसार कक्षा में पहुंच जाना चाहिए। इससे विद्यार्थी भी सक्रिय होते हैं।
6. अध्यापक को विद्यार्थियों के साथ प्रेम व सहानुभूति पूर्ण व्यवहार करना चाहिए।
7. अध्यापक को विद्यालय में शिक्षण कार्य करते समय उचित शिक्षण विधियों का प्रयोग करना चाहिए।
गणित शिक्षक का विद्यालय में क्या महत्व है?
Sarkari Focus
Sarkari Focus offers free online courses for various exams. We provide knowledge through articles, biographies, tests, news on results and events.
RELATED ARTICLES

वैदिक गणित का महत्व बताइए।

प्राचीन काल से ही शिक्षा के क्षेत्र में गणित का मुख्य स्थान रहा है। गणित के बारे में जैन गणितज्ञ ‘महावीर आचार्य...

गणित के क्षेत्र के बारे में बताइए।

आज का युग वैज्ञानिक युग है। इस समय में प्रत्येक कार्य गणना के आधार पर ही होता है। हमारे दैनिक जीवन से...

विज्ञान और गणित में क्या संबंध है?

विज्ञान और गणित का बड़ा घनिष्ठ संबंध है। प्रायः यह कहा जाता है कि गणित विज्ञान के हाथ पैर हैं। बिना गणित...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Most Popular

राष्ट्रीय पाठ्यक्रम निर्माण 2005

राष्ट्रीय पाठ्यक्रम निर्माण 2005 - मानव संसाधन मंत्रालय द्वारा बुलाई गई राष्ट्रीय अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद की कार्यकारिणी सभा में चिंतन किया...

संतुलित पाठ्यक्रम आवश्यकता

पाठ शालाओं की आत्मा होने के कारण पाठ्यक्रम में एकात्मक संतुलन और संजीवता होनी चाहिए। शिक्षा ऐसे जीवन के लिए होती है...

केंद्र सरकार के शैक्षिक उत्तरदायित्व

15 अगस्त 1947 को भारत स्वतंत्र हुआ। स्वतंत्रता पूर्व 1945 ईस्वी में शिक्षा विभाग का स्वतंत्र अस्तित्व प्रकाश में आ चुका था।...

शिक्षा निदेशक के कार्य

शिक्षा निदेशक के कार्य शिक्षा निदेशक के कुछ मुख्य कार्य निम्न है -

Recent Comments

विजय कुमार on RMLAU Exam Form
da-AL on Amazing Animals
Rohit Sharma on CTET Exam
Shivani Dixit on CTET Exam
Sarkari Focus on CTET Exam
Deepak Singh on CTET Exam
Shivalaya on CTET Exam
Saurabh Tiwari on CTET Exam
Ravi on RMLAU Exam Form
Diwan Singh Manola on RMLAU Exam Form
ROHIT SHARMA on RMLAU BSc Ag Scheme
Shubham Pandey on RMLAU BSc Ag Scheme
Mohit Sharma on 9th Math Chapter 2: Test
Sahitya Srivastava on 9th Math Chapter 2: Test
Abhishek Singh on 9th Math Chapter 2: Test
Devesh Singh on 9th Math Chapter 2: Test