गुण्डा कहानी समीक्षा

गुण्डा कहानी समीक्षा

गुण्डा कहानी भाव प्रधान आदर्शवादी कहानी है। इस कहानी में प्रेम करुणा और आनंद के पूर्व संयोजन पर सामाजिक मर्यादाओं तथा मान्यताओं के प्रति विवेकपूर्ण दृष्टिकोण अपनाया गया है। गुण्डा कहानी समीक्षा के मुख्य बिंदु इस प्रकार है।

गुण्डा कहानी समीक्षा

गुण्डा कहानी समीक्षा

जयशंकर प्रसाद जी एक समूचे योग तथा समस्त भाव धारा में तारतम्यता लाने के प्रयास में अपनी संवेदनाओं को विस्तृत कर कथा में चारुता उपस्थित कर देते हैं। प्रेम की उदारता और कर्तव्य की महानता व्यक्तित्व और राष्ट्रीयता में अद्भुत सामंजस्य कर कल्पना के रंगों में सजाकर आदर्श और यथार्थ के समन्वय से इस कहानी का निर्माण किया गया है विद्वानों ने प्रसाद की गुंडा कहानी की मुक्त कंठ से प्रशंसा की है कहानी कला की दृष्टि से गुण्डा कहानी समीक्षा निम्नलिखित है।

कथानक

इस कहानी का कथानक अत्यंत सशक्त एवं मार्मिक है। कथानक का आधार सांस्कृतिक चेतना मनोवैज्ञानिक सौंदर्य एवं प्रेम तथा कर्तव्य के अनुसार संयोजन से है। कहानी की कथावस्तु में क्रमबद्ध बता के साथ-साथ कौतूहल एवं चमत्कार का भी महत्व है। इस कहानी की कथावस्तु बनारस से संबंधित है। जिसमें तमाम राजनीतिक उथल-पुथल के बीच नानकू सिंह जैसे नामधारी गुंडे के स्वर पूर्ण बलिदान की कथा है।

यह बलिदान सामान्य ना होकर विशेष हो जाता है क्योंकि उसने प्रेमास पद की रक्षा की है। नन्हकू सिंह एक प्रतिष्ठित जमीदार का पुत्र था। अपने जीवन की किसी अलभ्य अभिलाषा को ना पूरी होने पर वह विरक्त हो गया। लेकिन वह विराग उसे सन्यासी ना बना सका। वह एक साथी गुंडा बन गया वेश्यालय में जाना जुआ खेलना तथा लोगों की मदद करना उसका शौक था। वह जुए में जीती गई धनराशि गरीबों में बांटता था।

वेश्यालय में मुजरा सुनने का शौकीन अनुकूकुंडा मौलवी के क्रूर आचरण से क्रुद्ध होकर उन्हें बनारसी झापड़ मारता है। कोबरा अंग्रेजी की चापलूसी करने वाला दुष्ट प्रवृत्ति का व्यक्ति है वह अंग्रेज रेजिडेंट के पास जाकर पूरा वेतन सुनाता है।

पात्र एवं चरित्र चित्रण

गुंडा कहानी के पात्र बहुत ही सशक्त हैं इस के पात्रों में नानकू सिंह बौद्ध सिंह मलूक की दुलारी कुकड़ा मौलवी पन्ना राजा चेतन सिंह लेफ्टिनेंट इंस्पेक्टर तथा मनिहार सिंह आदि हैं। नन्हकू सिंह बाबू निरंजन सिंह के पुत्र हैं साथ ही पन्ना से प्रेम करते हैं लेकिन प्रेम में असफल होने के बाद गुंडा का रूप धारण कर लेते हैं। पन्ना को प्राप्त ना कर सकने के बावजूद उनकी प्रेम भावना पन्ना के प्रति कम नहीं होती है।

संकटा पन्ने एवं उसके पुत्र चेतन सिंह को बचाने के लिए नानकू सिंह अपना सर्वस्व निछावर करने के लिए तत्पर हो जाते हैं। यही उनके चरित्र का सर्वाधिक उदात्त पक्ष है प्रसाद जी नन्हकू सिंह का चित्रण निम्न शब्दों में करते हैं।

वह 50 वर्ष से ऊपर था। तब भी युवकों से अधिक बलिष्ट और दृढ़ था चमड़े पर झुर्रियां नहीं पड़ी थी। वर्षा की झड़ी में पूछ की रातों की छाया में कड़कती हुई जेट की धूप में नंगे शरीर घूमने में वह सुख मानता था। उसकी चढ़ी मुझे बिच्छू के डंक की तरह देखने वालों की आंखों में चुभती थी। उसका सावला रंग सांप की तरह चिकना और चमकीला था। उसकी ना पूरी धोती का लाल रेशमी किनारा दूर से भी ध्यान आकर्षित करता था।

कमर में बनारसी सेल है का बेटा जिस में शिव की मूर्ति का बिछुआ खुश रहता था उसके घुंघराले बालों पर सुनहरे पल लेके साफे का चोर उसकी चौड़ी पीठ पर फैला रहता था मुझे कंधे पर टिका हुआ चूड़ीदार का गड़ासा यह थी उसकी ध्वज पंजों के बल जवा चलता था तो उसकी न सच बोलती थी वह गुंडा था कोबरा मौलवी एक दुष्ट प्रकृति का व्यक्ति है क्रूरता निर्दयता उसके रग रग में समाई है पन्ना गुंडा कहानी की प्रमुख स्त्री पात्र है।

वह धार्मिक प्रवृत्ति की संगीत प्रेमी नारी है यद्यपि पन्ना और ननकू सिंह में पारस्परिक प्रेम है किंतु कन्या का विवाह बलवंत सिंह से हो जाता है। इस प्रकार हम कह सकते हैं गुंडा कहानी में प्रसाद जी ने जिन चरित्रों की सृष्टि की है। वह कहानी की कथावस्तु को सशक्त बनाने में पूर्णता समर्थ है

कथोपकथन

अशोक कथन कहानी के विकास में अधिक सहायक नहीं होता किंतु भावों और विचारों के आदान-प्रदान के लिए इसकी आवश्यकता अनिवार्य होती है गुंडा कहानी में संवादों की बहुलता है लेकिन इसके संवाद कथा को गति प्रदान करते हैं साथ ही इनके काव्य सौंदर्य में चारुता उत्पन्न करते हैं कथाकथन में कहीं-कहीं उदासीनता और वैराग्य की तो कहीं छोड़ और व्यंग की अभिव्यक्ति हुई है। आप गुण्डा कहानी समीक्षा पढ़ रहे हैं।

देशकाल एवं वातावरण

कथाकार कहानी की भाव प्रवणता में वृद्धि करने के लिए वातावरण की सृष्टि करता है। इस कहानी का वातावरण 18वीं शताब्दी का है। यद्यपि यह काल्पनिक है फिर भी कल्पना बहुत उच्च कोटि की है। लेखक की विशेषता है कि वह अतीत की किसी घटना में कल्पना का रंग भरकर उसे वर्तमान से जोड़ देते हैं। के प्रारंभ में लेखक ने वातावरण का निर्माण करते हुए लिखा है। आप गुण्डा कहानी समीक्षा पढ़ रहे हैं।

ईसा की 18वीं शताब्दी के अंतिम भाग में वही काशी नहीं रह गई थी। जिसमें उपनिषद के अजातशत्रु की परिषद में ब्रह्म विद्या सीखने के लिए विद्वान ब्रह्मचारी आते थे गौतम बुद्ध शंकराचार्य के धर्म दर्शन के वाद विवाद कई शताब्दियों से लगातार मंदिरों और मठों के ध्वंस और तपस्या के वध के कारण प्रायः बंद हो गए थे।

भाषा शैली

जयशंकर प्रसाद जी की भाषा परिष्कृत कलात्मक एवं संस्कृत निष्ठ है तथा ललित शैली का माधुर्य नाथ की एकता और काव्य मई भाषा का गरिमा में प्रयोग उसकी चारुता को और बढ़ा देता है कहानी के उदात्त एवं ऐतिहासिक धरातल के अनुरूप भाव चित्र एवं वातावरण उपस्थित करने में प्रसाद जी की कहानी पूर्णतया समर्थ है। भाषा शैली का स्वाभाविक कलात्मक एवं सशक्त कविता पूर्ण चित्रण मोहक अलंकार विधान और तत्सम प्रधान रोज भाषा के कारण या कहानी प्रसाद की प्रतिनिधि कहानी कही जा सकती है। आप गुण्डा कहानी समीक्षा पढ़ रहे हैं।

गुंडा कहानी उद्देश्य

गुण्डा कहानी इनके उडान तो रूप को सामने लाती है एक ऐसा प्रेम जिसे वासना नहीं केवल भावना है। कहानी का नायक नन्हकू सिंह अपने अभी शिफ्ट प्रेम को प्राप्त न कर सकने के कारण अपना जीवन उद्देश्य बदल देता है। लेकिन चरित्र को नहीं गिराता है। वह प्रारंभिक प्रेम के ताप को जीवन पर्यंत महसूस करता है और अविवाहित रहता है वह दुलारी से कहता है कि हृदय को मैं बेकार समझ कर तो उसे मेरे लिए फिर रहा हूं। कोई कुछ कर देता है, कुशलता चीरता उड़ता मर जाने के लिए सब कुछ तो करता हूं पर मरने नहीं पाता हूं।

Sarkari Focus offers free online courses for various exams. We provide knowledge through articles, biographies, tests, news on results and events.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.