धर्म

145

धर्म का शाब्दिक अर्थ होता है, ‘धारण करने योग्य’सबसे उचित धारणा, अर्थात जिसे सबको धारण करना चाहिये’। हिन्दू, मुस्लिम, ईसाई, जैन या बौद्ध आदि धर्म न होकर सम्प्रदाय या समुदाय मात्र हैं।

शैव धर्म

  • यह भगवान शिव से संबंधित है और इनकी पूजा करने वाले शैव कहलाते हैं।
  • शिवलिंग उपासना का प्रारंभिक पुरातत्व छात्र हमें हड़प्पा संस्कृति से प्राप्त होता है।
  • शिवलिंग की उपासना का स्पष्ट वर्णन हमें मत्स्य पुराण में होता है।
  • ऋग्वेद में पहली बार भगवान शिव का उल्लेख मिलता है जबकि अथर्व वेद भव, शिव, पशुपति कहा गया है।
  • पशुपति संप्रदाय का सर्वप्रथम वर्णन हमें वामन पुराण में देखने को मिलता है। जो इसका सबसे प्राचीन संप्रदाय है। पशुपति के संस्थापक लकुलिश थे जो भगवान शिव के 18 अवतार में से एक थे।
  • पशुपति संप्रदाय के अनुयायियों को पंचथार्तिक कहकर पुकारा जाता था।
  • एलोरा के प्रसिद्ध कैलाश मंदिर की स्थापना राष्ट्रकूट शासकों ने कराई थी।
  • कुशाल शासकों की जितनी भी मुद्राएं प्राप्त होती थी, उनमें से अधिकतर में शिव और नंदी का अंकन होता था जिससे पता चलता है कि वह इस धर्म के अनुयाई थे।
  • चोल वंश के प्रतापी शासक राजराज प्रथम ने तज तांजोर में राजराजेश्वर मंदिर का निर्माण कराया था। जिसे वृद्धेश्वर मंदिर से भी जाना जाता है।

इस्लाम धर्म

इस्लाम धर्म
  • इसके प्रवर्तक मुहम्मद साहब थे। जिनका जन्म 570 ईसवी में मक्का में हुआ था।
  • इनके पिता का नाम अब्दुल्ला और उनकी माता अमीना थी।
  • इनका विवाह 25 वर्ष की उम्र में विधवा के साथ हुआ उनकी पत्नी का नाम खदीजा था
  • उनकी पुत्री फातिमा तथा दामाद अली हुसैन थे।
  • मोहम्मद साहब को 610 ईसवी में हीरा नामक गुफा में इन्हीं ज्ञान की प्राप्त हुई थी।
  • कुरान इस्लाम धर्म का सबसे प्राचीन ग्रंथ है।
  • 623 ईसवी में मोहम्मद साहब की मृत्यु मदीना में हुई थी।
  • इनकी मृत्यु के बाद यह धर्म दो भागों में बट गया शिया और सुन्नी
    • शिया समुदाय के लोग अली हुसैन की दीक्षा पर विश्वास करते थे।
    • सुन्नी समुदाय के लोग मोहम्मद साहेब की दीक्षा पर भरोसा करते थे।
  • मोहम्मद साहब के जन्म दिवस पर ईद- ए -मिलाद -उल नबी त्यौहार मनाया जाता है।

Daily News Analysis

वैष्णव धर्म

  • वैष्णो धर्म के प्रवर्तक भगवान कृष्ण थे।
  • इसका पहली बार उल्लेख छांदोग्य उपनिषद में मिलता है।
  • इसी उपनिषद में भगवान श्री कृष्ण के अवतार मिलता है।उपनिषद में भगवान श्रीकृष्ण को देवी देवकी और वसुमित्र के पुत्र तथा अंगिरास का शिष्य बताया गया है।
  • मत्स्य पुराण, भगवान कृष्ण के 10 अवतार का प्रमाण प्रकट करता है।
  • वैष्णो धर्म को दो भागों में बांटा गया था-
    1. वैष्णव संप्रदाय
    2. आजीवक संप्रदाय

ईसाई धर्म

धर्म, ईसाई धर्म
  • ईसाई धर्म के प्रवर्तक ईसा मसीह जी थे।
  • इस धर्म का पवित्र ग्रंथ बाइबिल है।
  • इनका जन्म जेरूसलम के निकट बेथलेहम नामक स्थान पर हुआ था।
  • उनके पिता का नाम जोसेफ और माता का नाम मरियम मेरी था।
  • ईसा मसीह को रोमन गवर्नमेंट ने इन्हें 33 ईसवी में सूली पर चढ़ा दिया था।
  • इनका पवित्र चिन्ह क्राश है।
  • उनके जन्मदिन को क्रिसमस डे या बड़ा दिन के नाम से मनाते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.