मौखिक गणित का अभ्यास कराते समय किन किन बातों का ध्यान रखना चाहिए?

गणित का अभ्यास कराते समय निम्नलिखित बातों को ध्यान में रखना चाहिए-

  1. मौखिक गणित के प्रश्नों में केवल छोटी-छोटी संख्याओं का ही प्रयोग करना चाहिए।
  2. प्रश्न प्रश्न छोटे छोटे होने चाहिए जिससे छात्रों ने सरलता से समझ सके।
  3. मौखिक प्रश्नों में जटिल घटनाओं को कराने का प्रयास नहीं करना चाहिए।
  4. मौखिक प्रश्न छात्रों की योग्यता अनुसार पूछे जाने चाहिए।
  5. मौखिक गणित में अधिक बल अभ्यास तथा गणना पर दिया जाना चाहिए।
  6. मौखिक प्रश्नों के द्वारा चिंतन तथा तर्क को प्रोत्साहन मिलेगा।
  7. मौखिक गणित के द्वारा छात्रों में गणितीय सिद्धांतों के बारे में स्पष्ट ता प्राप्त हो और उनको रखने की आदत ना पड़े यह ध्यान रखना चाहिए।
  8. गणित की पुस्तकों में मौखिक प्रश्नों को भी दिया जाना चाहिए।
  9. मौखिक प्रश्न पूछने के बाद छात्रों को सोचने का अवसर देना चाहिए।
  10. मौखिक प्रश्न को पूछने का एक निश्चित क्रम होना चाहिए मौखिक प्रश्नों का प्रयोग कक्षा को सचेत रखने के लिए किया जाना चाहिए। ताकि प्रत्येक छात्र पाठ को समझने के लिए प्रयास करें।
  11. मौखिक प्रश्नों को सर्वप्रथम सारी कक्षा के समक्ष प्रस्तुत करने के बाद ही किसी एक छात्र विशेष को उत्तर देने के लिए कहना चाहिए।
  12. मौखिक प्रश्न ऐसे हो कि छात्र अनुमान लगाकर उत्तर नहीं दे सके।
  13. मौखिक गणित को लिखित गणित का पूरक समझा जाना चाहिए।
  14. मौखिक गणित करते समय यदि कोई अस्पष्टता हो तो छात्रों को लिखकर समाधान करने का अभ्यास कराना चाहिए।
  15. मौखिक प्रश्नों के उत्तर यथासंभव छात्र ही दें इसका प्रयास करना चाहिए।
  16. कमजोर छात्रों के अशुद्ध उत्तरों को मेधावी छात्रों से ठीक कराना भी उपयुक्त होता है।

2 thoughts on “मौखिक गणित का अभ्यास कराते समय किन किन बातों का ध्यान रखना चाहिए?”

  1. Great beat ! I wish to apprentice even as you amend your web site, how could i
    subscribe for a weblog website? The account helped me a applicable
    deal. I were a little bit acquainted of this your broadcast offered brilliant transparent idea

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.