यही सच है कहानी

476

यही सच है कहानी मन्नू भंडारी की रचना है। जो पुरुष व स्त्री के संबंधों में प्रेम ग्रहण अनैतिक व अनैतिक सच झूठ, शुभ अशुभ, आज की जो परंपरागत धारणाएं रही हैं। उससे अलग हटकर या कहानी लिखी गई है।

यही सच है कहानी

जो 2 या 3 वर्ष पहले निशीथ की अभिन्न थी, एक झटके से अलग हो जाती है। अब तो उससे घृणा भी करने लगी है। संजय ने यदि कभी चुहल बाजी में भी निश्चित का नाम लेता है, तो वह जल भूल जाती है। वह आप मिले क्षण करती हुई कहती है, मैं जानती हूं संजय का नाम निश्चित को लेकर जब तक संघ की तो हो उठता है, पर मैं उसे कैसे विश्वास दिलाओ कि मैं किसी से नफरत करती हूं। उसकी याद मात्र से मेरा मन घृणा से भर उठता है फिर 18 वर्ष की आयु में किया हुआ प्यार भी कोई प्यार होता है।

यही सच है कहानी
यही सच है कहानी

वह निरा बचपन होता है महज पागलपन उसमें आवेश रहता है। वह स्थाई तो नहीं जिस वेग से आरंभ होता है जरा सा झटका लगने पर उसी वेग से टूट भी जाता है। उसके बाद आंसुओं और शक्तियों का एक दोहरा फिर तो वह सब एक ऐसी बेवकूफी लगता है। जिस पर बैठकर घंटों हंसने की तबीयत होती है। इस समय प्यार को ही वह सच्चा और प्राण मानती है। विश्वास करो संजय तुम्हारा मेरा प्यार यही सच है। निशित का प्यार तो मात्र छल था, भ्रम था, झूठ था।

नौकरी के सिलसिले में जब दीपा को कोलकाता जाना पड़ता है, तो वह चाहती है कि निशित से बेचना हो पर बैठ हो जाती है। वह उससे बातचीत करना चाहती है। वह संजय और अपने संबंधों की चर्चा करके निश्चित को अलग कर देना चाहती है। परंतु इन संबंधों की चर्चा नहीं कर पाती। पुनः पुरानी बातों को छोड़कर सब कुछ साफ कर ले वह उसके आलिंगन के लिए भी आतुर होती है। बड़े कातर करोड़ और याचना भरी दृष्टि में उसे देखती हूं मानो रही । कि तुम कह क्यों नहीं देते निशित कि आज भी तुम मुझे प्यार करते हो।

चित्रलेखा उपन्यासचित्रलेखा उपन्यास व्याख्या
रागदरबारी उपन्यासराग दरबारी उपन्यास व्याख्या
कफन कहानीकफन कहानी सारांश
कफन कहानी के उद्देश्य
कफन कहानी के नायक घीसू का चरित्र चित्रण
प्रेमचंद कहानियां समीक्षा
गुण्डा कहानी सारांशगुण्डा कहानी समीक्षा
गुंडा कहानी में नन्हकु सिंह को गुंडा क्यों कहा गया है?
यही सच है कहानीचीफ की दावत समीक्षा
तीसरी कसम कहानी सारांशराजा निरबंसिया समीक्षा
पच्चीस चौका डेढ़ सौ कहानी समीक्षा

तुम मुझे सदा अपने पास रखना चाहते हो। जो कुछ हो गया उसे भूल कर मुझ से विवाह करना चाहते हो। कह दो निशित कह दो यह सुनने के लिए मेरा मन आकुल हो रहा है छटपटा रहा है।

यही सच है कहानी की प्रमुख विशेषताएं

यही सच है कहानी की प्रमुख विशेषताएं निम्न है-

  1. इस कहानी में कर्तव्य और भावना का द्वंद है।
  2. मनोविश्लेषण की प्रधानता है।
  3. मानवीय संवेदनाओं को महत्व दिया गया है।
  4. व्यक्तिवाद के प्रति महत्व बढ़ा है।
  5. नारी मन के सास्वत द्वंद पर प्रकाश डाला गया है।
  6. अस्तित्व वादी विचारधारा का समावेश है।

“यही सच है” कहानी किसने लिखी है?

मन्नू भंडारी ने

निशंकु कहानी संग्रह किसका है?

कृष्णा सोबती

यही सच है कहानी किस वर्ष प्रकाशित हुई?

2004 में

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.