विश्व के महाद्वीप

विश्व में सात महाद्वीप हैं-

  1. एशिया
  2. अफ्रीका
  3. उत्तरी अमेरिका
  4. दक्षिणी अमेरिका
  5. यूरोप
  6. ऑस्ट्रेलिया
  7. अंटार्कटिक

एशिया महाद्वीप

एशिया महाद्वीप विश्व का सबसे बड़ा महाद्वीप है जिसके अंतर्गत विश्व की 60% जनसंख्या आती है। इसमें चीन की जनसंख्या सर्वाधिक है एवं द्वितीय स्थान पर भारत आता है। क्षेत्रफल की दृष्टि से चीन सबसे बड़ा एवं सिंगापुर सबसे छोटा देश है। यह पुरातन काल से ही समृद्ध सभ्यताओं की जननी रहा है। इसमें असीरियन, मोसेपोटामिया, सुमेरियन एवं सिंधु जैसे सभ्यताएं फली-फूली हैं। यह महाद्वीप विविधताओं से संपन्न है इसमें एक और माउंट एवरेस्ट पर्वत जैसा उच्चतम बिंदु है तो दूसरी ओर मृत सागर जैसा निम्नतम बिंदु भी है। इसमें विभिन्न पठार जैसे गोबी, लोयस, अरब, दक्कन के पठार आदि हैं। ब्रह्मपुत्र, दजला, फरात, इरावती, सिंधु, गंगा, यांगटसी, हवांग आदि प्रमुख नदियां हैं।

एशिया महाद्वीप में विभिन्न प्रकार की मिट्टी जैसे काली, लावा, रेतीली, एव दोमट मिट्टी पाई जाती है। यहां शुष्क, मानसूनी एवं शीत तीनों प्रकार की जलवायु पाई जाती है। इस महाद्वीप के दक्षिणी पूर्वी भाग में पतझड़ वन, मरुस्थली एवं शुष्क क्षेत्रों में शीतोष्ण घास के मैदान, टुंड्रा एवं टैगा में कोनधारी एवं मध्य भाग में स्टेपी घास के वन पाए जाते हैं। महत्वपूर्ण यह है कि यह महाद्वीप खनिज संसाधनों से संपन्न है। यहां पर धात्विक अधात्विक कठोर सभी प्रकार के खनिज पाए जाते हैं। अभ्रक के उत्पादन एवं भंडारण दोनों में भारत विश्व में अग्रणी देश है। लौह अयस्क के उत्पादन में चीन प्रथम स्थान पर है। गौरतलब है कि विश्व का 60% कोयला एवं पेट्रोलियम इसी महाद्वीप में होता है। भारत, चीन एवं कोरिया कोयला के प्रमुख उत्पादक देश हैं। तेल क्षेत्र में सऊदी अरब प्रथम स्थान पर है। टंगस्टन के भंडारण में चीन प्रथम स्थान पर है।इस महाद्वीप में विभिन्न प्रकार की कृषि चाहे वह नगदी हो या व्यापारिक की जाती है।उद्योग के क्षेत्र में चीन, ताइवान, भारत, जापान, दक्षिण कोरिया, सिंगापुर, मलेशिया प्रमुख देश हैं।

एशिया का भौगोलिक विभाजन

  • मध्य एशिया (कजाकिस्तान, उज़्बेकिस्तान, तुर्कमेनिस्तान, तजाकिस्तान, किर्गिस्तान)
  • दक्षिण एशिया (भारत, बांग्लादेश, भूटान, मालदीव, पाकिस्तान, श्रीलंका, नेपाल)
  • पूर्व एशिया (चीन, हांगकांग, जापान, उत्तरी कोरिया, मंगोलिया, दक्षिणी कोरिया, ताइवान)
  • दक्षिण-पूर्वी एशिया (कंबोडिया, इंडोनेशिया, लाओस, मलेशिया, म्यामार, सिंगापुर, फिलीपींस, थाईलैंड एवं वियतनाम)
  • दक्षिण-पश्चिम एशिया (साइप्रस, बहरीन, अफगानिस्तान, इजरायल, इराक, ईरान, जाडन, ओमान, कुवैत, लेबनान, फिलिसतान, कतर, सीरिया, तुर्की, सऊदी अरब आदि)
महाद्वीप

यूरोप महाद्वीप

क्षेत्रफल की दृष्टि से यूरोप विश्व का छठवां सबसे बड़ा महाद्वीप है। अन्य महाद्वीपों की तुलना में यह एक विकसित एवं समृद्ध महाद्वीप है इस महाद्वीप के उत्तर में आर्कटिक महासागर, दक्षिण में भूमध्य सागर, पूर्व में काकेशस पर्वत तथा पश्चिम में अटलांटिक महासागर है। जनसंख्या की दृष्टि से एशिया एवं अफ्रीका के बाद तीसरा सबसे बड़ा महाद्वीप है।

यूरोप में कई प्रकार की नदियां प्रवाहित होती हैं जैसे- वोल्गा, राइन, टेम्स, लॉयर, एल्ब, डॉन, निस्टर आदि नदियों से जल संसाधन के अतिरिक्त कई अन्य प्रकार के लाभ है। इन क्षेत्रों में वर्षा भी अधिक होती है। दक्षिण के भूमध्यसागरीय क्षेत्र में कम ठंड होती है। टूड्रा जलवायु प्रदेश महाद्वीप का सबसे ठंडा क्षेत्र है। यहां शीतकाल काफी लंबा होता है। यहां का औसत कभी भी 10 डिग्री सेल्सियस से अधिक नहीं होता। टुंड्रा प्रदेश में पूर्ण धारी वन एवं टूड्रा के दक्षिण में टैगा वन पाए जाते हैं। इनमें स्प्रूस, चीड़ वृक्षों की बहुलता है। जर्मनी के ब्लैक फॉरेस्ट विश्व में प्रसिद्ध है।

किस महाद्वीप में कई प्रकार के खनिज विद्यमान हैं लोहा एवं कोयला के लिए यहां विशाल भंडार है। पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस भी प्रचुर मात्रा में उपलब्ध है। इन खनिजों के अलावा यहां बॉक्साइट, पोटाश, तांबा, सीसा,जस्ता आदि भी पाए जाते हैं। रूस, जर्मनी, इंग्लैंड, बेल्जियम, फ्रांस आदि यहां के प्रमुख कृषि उत्पादक देश में हैं। यहां सबसे अधिक गेहूं की पैदावार की जाती है।

भारत में यूरोपियों का आगमन

यूरोप का भौगोलिक विभाजन

  • उत्तरी यूरोप (फिनलैंड, डेनमार्क, इस्टोनिया, आइसलैंड, नार्वे, स्वीडन, ब्रिटेन, आयरलैंड)
  • दक्षिणी यूरोप (अल्बानिया, एंडोरा, बोस्निया, जिब्राल्टर, यूनान, वेटिकन सिटी, स्पेन, स्लोवेनिया, सरबिया, मरीना, पुर्तगाल, मेसिडोनिया, माल्टा, कोसोवा)
  • पूर्वी यूरोप (बुलगारीआ, बेलारूस, चेक गणराज्य, हंगरी, माल्टोवा, रोमानिया, पोलैंड, स्लोवाकिया, यूक्रेन एवं जॉर्जिया)
  • पश्चिमी यूरोप (फ्रांस, बेल्जियम, ऑस्ट्रिया, स्विट्जरलैंड, जर्मनी, लक्जमबर्ग, मोनाको एवं नीदरलैंड)

अफ्रीका महाद्वीप

अफ्रीका महाद्वीप विश्व का दूसरा सबसे बड़ा महाद्वीप है। यह एशिया में स्वेज नहर स्वेज की खाड़ी एवं लाल सागर तथा यूरोप में जिब्राल्टर स्ट्रेट एवं भूमध्य सागर से पृथक होता है। इस महाद्वीप में 46 एवं अन्य दीप समूह को जोड़कर 54 देश हैं। इस महाद्वीप का सबसे ऊंचा स्थान माउंट किलिमंजारो है जो समुद्र तल से 5895 मीटर ऊंचा है, जबकि सबसे नीचे स्थान अक्साई झील है, जिसकी समुद्र तल से गहराई 168 मीटर है। अफ्रीका नीस, ग्रेनाइट एवं शिष्ट का बना हुआ है। प्रारंभ में यह गोडवाना लैंड का एक हिस्सा था, लेकिन कालांतर में हुए भूगर्भीक परिवर्तनों की वजह से या उससे अलग हो गया। इस प्रदेश में रोजवुड, आबनूस, रबड़, सिनकोना, सागोन्न आदि के वृक्ष पाए जाते हैं। नदियों के मुहाने पर मैंग्रोव उगते हैं।

अफ्रीका में विभिन्न प्रकार के जीव जंतु पाए जाते हैं। महाद्वीप का स्थल एवं जली भाग दोनों वैद्य प्रकार के जीव जंतुओं से परिपूर्ण है। यहां के जली स्त्रोतों में विभिन्न प्रकार की मछलियां घड़ियाल, सर्प आदि पाए जाते हैं। इस महाद्वीप में तेल एवं प्राकृतिक गैस का उत्पादन मुख्य रूप से लीबिया, अल्जीरिया, मिश्र, नाइजीरिया, गओयन एवं अंगोला में किया जाता है। दक्षिण अफ्रीका, जिंबाब्वे तथा नाइजीरिया कोयले के मुख्य उत्पादक देश हैं। यहां के लगभग 75% लोग कृषि कार्यों में लगे हुए हैं। यहां पाए जाने वाले प्रमुख फसलों में ज्वार, बाजरा, चावल, कसावा, गेहूं, मक्का आदि प्रमुख है। इस महाद्वीप में विभिन्न प्रकार के जनजातियां पाई जाती हैं। कांगो के पिग्मी, अल्जीरिया मोरक्को के बर्बर, गुयाना के पापाओ ,उत्तर-पश्चिम अफ्रीका के हेमाइट्स आदि प्रमुख हैं।

अफ्रीका का भौगोलिक विभाजन

  • उत्तरीअफ्रीका (मिस्र, लीबिया, अल्जीरिया, मोरक्को, ट्यूनीशिया, केपवाडे, चाड, माली, मारीतान्या, नाइजर, सूडान)
  • पश्चिमी अफ्रीका (बेनिन, बुरीकाना, गिनी, घाना, लाइबेरिया, गिनी बिसाऊ, सेनेगल, नाइजीरिया, टोगो, सियरा लियोन)
  • उत्तर-पूर्वी अफ्रीका (बुरुंडी, जिबूती, इरिट्रिया, इथोपिया, केन्या, रवांडा, सोमालिया, तंजानिया एवं युगांडा)
  • पश्चिम-मध्य अफ्रीका (मध्य अफ्रीकी गणराज्य, कैमरून, गैविन, कांगो, विश्वत रेखा, गिनी एवं साओ टोमे तथा प्रिंसेस दीप समूह)
  • दक्षिण अफ्रीका (बोत्सवाना, अंगोला, मेडागास्कर, कोमोरोस, लेसोथो, मोजांबिक, मारीशस, मलावी, स्वाजीलैंड, सेशेल्स, दक्षिण अफ्रीका, नामीबिया, जाविया, तंजानिया, जिंबाबे )

उत्तरी अमेरिका महाद्वीप

क्षेत्रफल की दृष्टि से एशिया में अफ़्रीका के पश्चात या विश्व का तीसरा सबसे बड़ा महाद्वीप है। जनसंख्या की दृष्टि से एशिया, अफ्रीका, यूरोप के पश्चात विश्व का चौथा सबसे बड़ा महाद्वीप है। यहां महाद्वीप अलास्का से लेकर ग्रीनलैंड तक तथा फ्लोरिडा से लेकर मैक्सिको तक फैला हुआ है। यह क्षेत्र न्यूफाउंडलैंड से औजार तथा उचिता पर्वत एवं ओकलाहोमा अलबामा एवं अमरकंसास तक फैला हुआ है। उत्तरी अमेरिका में कई प्रमुख नदियां पाई जाती हैं जो यहां की अर्थव्यवस्था का एक प्रमुख आधार है। इनमें मिसौरी, सेंट लारेंस, मिसिसिपी, रेड, कोलोरोड, पीस,ओहियो, चर्चे, इसनेकेम, सासकेचवान के नाम प्रमुख हैं। किस महाद्वीप को अनेक जलवायु प्रदेशों में विभाजित किया गया है। उत्तरी भागों में जहां पतझड़ एवं चीड़ के वन होते हैं वही उपोषण जलवायु प्रदेश में मैंग्रोव वृक्षों की प्रधानता है। ओक तथा हिकोरी के वृक्ष टैनोसी घाटी में होते हैं। यहां पेट्रोलियम का विशाल भंडार पाया जाता है।रूस के पश्चात सबसे अधिक प्राकृतिक गैसों का उत्पादन यही होता है।

महाद्वीप के संयुक्त राज्य अमेरिका एंड कनाडा में कई प्रमुख उद्योग हैं। यहां की अर्थव्यवस्था का 25% आधार उद्योग ही है। यहां वाहन, फिल्म, खाद्य प्रसंस्करण, इलेक्ट्रॉनिक कंप्यूटर, हथियार, वायुयान, वस्त्र, छपाई तथा प्रकाशन उद्योग धंधे उन्नत अवस्था में हैं। इसी प्रकार कनाडा के ओटावा केलगिरी, क्यूबेक, विनिपेग एवं इन्वेंटरों में भी कई प्रकार के उद्योग पाए जाते हैं।

उत्तरी अमेरिका का भौगोलिक विभाजन

  1. उत्तरी अमेरिका इसमें निम्न दो देश आते हैं संयुक्त राज्य अमेरिका एवं कनाडा।
  2. मध्य अमेरिका संयुक्त राज्य अमेरिका तथा दक्षिण अमेरिका केक कोलंबिया देशों के बीच स्थित देशों को मध्य अमेरिका के देश कहा जाता है।मध्य अमेरिका में अटलांटिक दीप समूह को भी शामिल किया जाता है इस समूह में आने वाले देशों की संख्या 15 है तथा उनके नाम इस प्रकार हैं-मेक्सिको, कोस्टारिका, बेलीज, होंडुरास, ग्वाटेमाला, निकारागुआ, क्यूबा, पनामा, एंटीगुआ तथा बारबदा, डोमिनिका, बारबाडोस, जमायका हैटी, ग्रेनाडा एवं डोमिनिका गणतंत्र।

दक्षिण अमेरिका महाद्वीप

क्षेत्रफल की दृष्टि से दक्षिण अमेरिका विश्व का चौथा सबसे बड़ा महाद्वीप है पश्चिम में यह प्रशांत महासागर उत्तर पश्चिम में उत्तरी अमेरिका एवं भूमध्य सागर से गिरा है या महादेव भौगोलिक विविधताओं से युक्त है इस तरह कृत्य के आधार पर इस महाद्वीप को 7 भागों में विभक्त किया गया है। एंडीज पर्वत, पराना पठार, ब्राजीएनफील्ड, तटीय मैदान, परआना पराग्वे का मैदान, अमेजन नदी एवं औरोनीको नदी।एंडीज पर्वतमाला प्रशांत महासागर के साथ-साथ उत्तर से दक्षिण की ओर 6440 किलोमीटर तक फैली हुई है यह विश्व की सबसे बड़ी पर्वतमाला है। एकांकागुआ इस की सबसे ऊंची चोटी है जिसकी ऊंचाई 6960 मीटर है।दक्षिण अमेरिका में के प्रसिद्ध नदियां पाई जाती हैं अमेजॉन यहां की सबसे बड़ी एवं विश्व की दूसरी सबसे बड़ी नदी है अमेजन के बाद परआना का स्थान है।

यहां के प्रदेशों में सदाबहार जंगल एवं अटाकामा तथा पेंटा गोनिया के मरुस्थल में झाड़ीदार व कांटेदार जंगल पाए जाते हैं।अर्जेंटीना के उत्तर में पतझड़ वन एवं पूर्व में पंपास घास के मैदान हैं जिनमें अल्फाल्फा नामक घास पाई जाती है। पराग्वे के निचले मैदानों में पनटाना नामक घास के मैदान में प्रमुख हैं।अर्जेंटीना इस महाद्वीप का सबसे अधिक कृषि प्रधान देश है इसके बाद ब्राजील का स्थान है। पंपास के मैदान भी इसी प्रकार के क्षेत्रों में आते हैं। गेहूं, मक्का एवं घास यहां प्रमुख रूप से उगाई जाती है। ब्राजील काफी के उत्पादन में विश्व में प्रथम स्थान पर है। इसके अलावा वेनेजुएला एवं कोलंबिया में भी प्रचुर मात्रा में कॉफी का उत्पादन होता है।

दक्षिण अमेरिका का भौगोलिक विभाजन

दक्षिण अमेरिका में फाकलैंड, इस्टेर द्वीप, गालापागोस एवं फुगो को शामिल किया गया है। इस महाद्वीप में मुख्य रूप से निम्न देश सम्मिलित हैं- अर्जेंटीना, ब्राजील, वेनेजुएला, पराग्वे, चिल्ली, उरूग्वे, गुयाना सुरीनाम एम त्रिनिदाद टोबैको।

ऑस्ट्रेलिया महाद्वीप

क्षेत्रफल की दृष्टि से विश्व का सबसे छोटा महाद्वीप है वैसे ऑस्ट्रेलिया ओशेनिया महाद्वीप में आता है। ऑस्ट्रेलिया में 6 मुख्य राज्य एवं दो प्रमुख मुख्य भूमि क्षेत्र हैं। 6 राज्यों के नाम है-क्वासी लैंड, न्यू साउथ वेल्स, दक्षिणी आस्ट्रेलिया, विक्टोरिया, तस्मानिया पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया। इसी प्रकार दो प्रमुख मुख्य भूमि क्षेत्र हैं-उत्तरी क्षेत्र, ऑस्ट्रेलिया राजधानी क्षेत्र। स्थलाकृति की दृष्टि से इस महाद्वीप में 4 मुख्य भाग हैं उत्तरी उष्णकटिबंधीय सवाना घास के मैदान, पूर्वी आदर पर्वती प्रदेश, आंतरिक शुष्क मैदान, भूमध्यसागरीय जलवायु प्रदेश। ऑस्ट्रेलिया में विश्व की सबसे बड़ी प्रवाल भित्ति पाई जाती है जो ग्रेट बैरियर रीफ है। यह उत्तर पूर्वी तट के समीप क्वासी लैंड के निकट स्थित है। डार्लिंग, मर्रे आदि ऑस्ट्रेलिया के प्रमुख नदियां हैं।

ऑस्ट्रेलिया की जलवायु सामान्यता से तो सुना है मैदानी इलाकों में सिद्ध का प्रभाव कम एवं पर्वतीय क्षेत्रों में ज्यादा होता है।ऑस्ट्रेलिया में मुक्ता सदाबहार प्रजाति के वृक्ष पाए जाते हैं, जिसमें यूकेलिप्टस एवं अकेसियस के वृक्ष प्रमुख हैं। यहां की विभिन्न प्रजातियां लेग्यूम है। यहां कंगारू का पाया जाना इस महाद्वीप का एक पृथक पहचान प्रदान करता है।यहां सोना, लोहा, तांबा, बॉक्साइट, मैगनीज, निकील, सिरसा, यूरेनियम आदि विभिन्न प्रकार के खनिज पाए जाते हैं। ब्रोकन हिल में शीशे का उत्खनन होता है। यूरेनियम का यह एक मुख्य उत्पादक देश है।ऑस्ट्रेलिया में मात्र 6% भूमि की कृषि योग्य होने के उपरांत भी यह विश्व के प्रमुख उत्पादक देशों में से एक है। गेहूं यहां की सबसे मुख्य फसल है। इस महाद्वीप के पूर्वी तटीय क्षेत्र के पश्चिमी ढालो न्यू साउथ वेल्स एवं विक्टोरिया में बड़ी संख्या में बकरी और भेड़ पालन केंद्र पाए जाते हैं।

ऑस्ट्रेलिया का भौगोलिक विभाजन

ऑस्ट्रेलिया वैसे ऑशेनिया का एक भाग है। ऒशेनिया मैं आस्ट्रेलिया के अलावा निम्न भाग होते हैं- न्यूजीलैंड, तस्मानिया मेलीनेशिया माइक्रोनेशिया, पोलिनेशिया आदि दीप समूह है जिनमें मार्शल द्वीप समूह सबसे प्रमुख है।

अंटार्कटिका महाद्वीप

इसका क्षेत्रफल यूरोप से लगभग 1.3 गुना ज्यादा है।अंटार्कटिका पृथ्वी का सबसे ठंडा एवं शुष्क महाद्वीप है। यहां तेज बर्फीली हवाएं निरंतर प्रवाहित होती रहती हैं। इसे श्वेत महाद्वीप के नाम से भी जाना जाता है।यह दक्षिणी गोलार्ध में अंटार्कटिक वृत्त के दक्षिण में है तथा दक्षिण महासागर से घिरा हुआ है। इस महाद्वीप का लगभग 98% भाग बर्फ की चादर से ढका हुआ है जिसकी मोटाई लगभग 1.6 किलोमीटर है।जहां महाद्वीप अंटार्कटिका पर्वतमाला द्वारा दो मुख्य भागों पूर्वी अंटार्कटिका एवं पश्चिमी अंटार्कटिका में विभक्त है। एलसवर्थ पर्वत का विंसन मैसिफ यहां का सबसे ऊंचा स्थल है। अंटार्कटिका में कई झीलें भी है जिनकी संख्या लगभग 70 है। 1996 में रू अन्वेषी स्थल बोस्टॉक के समीप वोस्टक झील का पता लगाया गया था यह झील अंटार्टिका की सबसे बड़ी झील है। अंटार्कटिका की जलवायु अत्यंत ठंडी है यह पृथ्वी का सबसे ठंडा स्थल है। आर्कटिक की तुलना में अंटार्कटिक ज्यादा ठंडा है। इसके दो कारण है पहला यह समुद्र तल से लगभग 3 किलोमीटर ऊंचा है तथा दूसरा आर्कटिक महासागर उत्तरी ध्रुव को स्पष्ट करता है।

1984 में जहां जन्म लेने वाली जान पाब्लो कोमाको पहली चिली नागरिक बनी जिनका अंटार्कटिका में जन्म हुआ।अब यहां विभिन्न केंद्रों की स्थापना हो चुकी है, जिनमें कई परिवार अपने बच्चों के साथ रहते हैं। यह बच्चे यहां खेलते कूदते हैं एवं केंद्रों में स्थापित स्कूलों में शिक्षा ग्रहण करते हैं।हालांकि जमाव बिंदु तक के तापमान उपजाऊ मृदा तथा नमी एवं प्रकाश के अभाव की वजह से यहां पौधों का गुणा संभव नहीं है। इसी वजह से जहां पौधों के रूप में केवल शैवाल ब्रायोफाइट्स एवं कवक पाए जाते हैं। अंटार्कटिका में ना ही कोई सरकार है और ना ही यह किसी देश के अधीन है। हालांकि इसके विभिन्न क्षेत्रों पर विभिन्न देशों ने अपने-अपने दावे प्रस्तुत किए हैं।अभी तक यहां पर हाइड्रोकार्बन, लौह अयस्क, तांबा, प्लैटिनम, क्रोमियम, निकील, सोना एवं कई अन्य खनिज पदार्थों का पता लगाया जा चुका है।

Responses

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.