व्यायाम और खेलकूद के महत्त्व

व्यायाम और खेलकूद के महत्त्व 1

खेल और खेल खेलना हमारे लिए स्वस्थ हैं। ये शरीर के विभिन्न अंगों के उचित संचालन में सहायक होते हैं। व्यायाम और खेलकूद हमारे शरीर और दिमाग में ताजगी लाते हैं। हम खेल खेलकर ऊर्जावान महसूस करते हैं। वे हमारी मांसपेशियों का अच्छा आकार बनाते हैं। ये हमारे शरीर के आलस्य को ताजगी में बदल देते हैं। वे हमें कुछ ऐसा देते हैं जो शायद कुछ भी नहीं दे सकता।

व्यायाम और खेलकूद

www.google.com

स्कूलों और अन्य उच्च संस्थानों में खेल को शिक्षा के रूप में आवश्यक हिस्सा माना जाता है। स्कूलों में विभिन्न प्रकार की खेल प्रतियोगिताएं आयोजित की जाती हैं। स्कूलों में वार्षिक खेल प्रतियोगिताएं होती हैं। स्कूल में, खेलों के लिए प्रतिदिन एक अवधि दी जाती है। एक शिक्षक सिखाता है कि छात्रों को विभिन्न गेम कैसे खेलें।

छात्रों और खेलों के बचपन के बीच एक अच्छा बंधन है। छात्र खेल से नई चीजें सीखते हैं। खेलों से साहस और आत्मविश्वास का विकास होता है। वे फुर्तीले और तेज हो जाते हैं। विजय उन्हें नए उत्साह और प्रेरणा से भर देती है।

दुनिया में खेल के महत्व को सभी जानते हैं। इसलिए, अब विभिन्न देशों में ओलंपिक आयोजित हुए। ये ओलंपिक खेल सबसे बड़ी प्रतियोगिता है जो हर चौथे साल होती है। हर चौथे वर्ष, एशियाई खेल एशिया महाद्वीप का सबसे बड़ा आयोजन होता है। लोग खेल में अधिक रुचि लेने लगते हैं।

भारत में, क्रिकेट, हॉकी, फुटबॉल, पोलो, शतरंज, टेबल टेनिस, लॉन टेनिस, बैडमिंटन, आदि खेला जाता है। क्रिकेट उनमें सबसे लोकप्रिय है। क्रिकेट युवा पीढ़ी के लोगों को आकर्षित करता है। क्रिकेट और अन्य खेलों का सीधा प्रसारण देखकर लोग खुश होते हैं। हर कोई अपने देश की टीम को जीतते हुए देखना चाहता है। इस तरह के व्यायाम और खेलकूद राष्ट्रीय एकता की भावना को बढ़ाने में बहुत सहायक होते हैं। जब कोई खिलाड़ी खेल में अच्छा करता है तो देश का गौरव बढ़ता है।

खेलों से शारीरिक और मानसिक क्षमता में वृद्धि हुई। ताजा हवा हमारे फेफड़ों में प्रवेश करती है। आजकल बहुत सारे अच्छे खिलाड़ियों को सम्मान मिला। उन्हें समाज में उचित सम्मान मिलता है। खेल और खेल सभी लोगों के लिए मूल्यवान हो रहे हैं। सरकार और खेल संगठन खेलों को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। आज के बच्चे देश के निर्माण में मदद करते हैं। 

Related Articles

आधुनिक भारत का इतिहास

Contents भारत में यूरोपीय व्यापारिक कंपनियों का आगमन1857 का विद्रोह1857 के विद्रोह के केंद्र भारतीय नायक और विद्रोह को दबाने वाले अधिकारीसामाजिक एवं धार्मिक सुधार…

Responses

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.