Drainage

The term drainage describes the river system of an area. Look at the physical flowing from different directions come together to form the main river, which ultímately drains into a large water body such as a lake or a sea or an ocean. The area drained by a single river system is called a drainage basin. A closer observation on a map will indicate that any elevated area, such as a mountain or an upland, separates two drainage basins. Such an upland is known as a water divide.   DRAINAGE SYSTEMS IN INDIA  The drainage systems of India are mainly controlled by the broad relief features of the subcontinent. Accordingly, the Indian rivers are divided into two major groups:  the …

Drainage Read More »

Drainage

व्यायाम के लाभ

व्यायाम के लाभ मानव जीवन में स्वस्थ शरीर का महत्त्व : किसी ने ठीक ही कहा है ‘पहला सुख नीरोगी काया, जिसका आशय है कि वही व्यक्ति सुखी है जिसका शरीर पूरी तरह से स्वस्थ तथा नीरोगी है । मानव जीवन में शारीरिक स्वास्थ्य का बहुत महत्त्व है । इस संसार में अनेक प्रकार के सुखों का भोग तथा कर्तव्यों की पूर्ति केवल स्वस्थ व्यक्ति ही कर पाता है । अस्वस्थ तथा रोगी मनुष्य न तो अपना कुछ हित कर सकता है तथा न ही देश और समाज के लिए कुछ कर पाता है क्योंकि स्वस्थ शरीर ही हमारी सभी प्रकार की साधनाओं का माध्यम है। स्वास्थ्य लाभ के साधन अच्छे स्वास्थ्य की प्राप्ति के लिए खेलना – कूदना , …

व्यायाम के लाभ Read More »

कबड्डी भारत का प्राचीन खेल

‘कबड्डी ‘ भारत का प्राचीन खेल है , जो आज भी लोगो मे अत्यंत लोकप्रिय है । यद्यपि आज अनेक प्रकार के खेल प्रचलित हैं जैसे – फुटबाल , हॉकी , वालीबॉल , टेबिल टेनिस , लॉन टेनिस , बेडमिंटन आदि । यद्यपि भारत में आज क्रिकेट का बोलबाला है । कभी समय था जब हॉकी को भारत का राष्ट्रीय खेल माना जाता था , पर आज सभी क्रिकेट के दीवाने हैं । पर मेरी दृष्टि से कबड्डी क्रिकेट से कहीं सरल तथा उपयोगी खेल है । सरल एवं उपयोगी खेल ; कबड्डी का खेल अत्यंत सरल , सस्ता तथा उपयोगी है । इसे खेलने के लिए लंबे , चौड़े मैदान तथा सामान की आवश्यकता नहीं पड़ती । इसे खेलना …

कबड्डी भारत का प्राचीन खेल Read More »

हिमालय: संस्कृत निबंध

पर्वतराज हिमालय पर संस्कृत में निबंध कभी-कभी प्रश्नपत्र में पूछ लिया जाता है। हिमालय पर संस्कृत में निबंध लिखने के लिए निम्न बिंदुओं पर निबंध लिखना है। स्थिति महिमा: देवा नाम निवास स्थली लाभा: स्थिति पर्वतराज: हिमालय: भारतस्य उत्तरस्यां दिशि: विराजते। हिमालय: प्रहरी इव भारतम् रक्षति। पूर्ववश्या पश्चिमश्याम् च दिशि हिमालयस्य शाखा: प्रशाखा दूरं प्रसृता: सन्ति। स: भारत भ्रातु शिरसि मुकुट इव शोभते अस्य गौरी शंकर इति नाम शिखरं संसारस्य इसमस्तेषु पर्वत शिखरेषु उच्चतम अस्ति। महिमा: अयं परमौषधीनाम् रत्नां च महान आकार: आस्ति। गंगा यमुना प्रभृतय: नद्य: अत्र एव प्रभवन्ति। एता: सरिता: भारत भूमिम् शस्यश्यामलां कृषि समृद्धां च कुर्वन्ति। देवानाम् निवास स्थली अत्र देवानां निवास: अस्ति। महादेव सपरिवार: अत्र एवं निवसति। पार्वती अत्रैव तपम् अकरोत सा तपत्वा शिव लब्धवती। भारतास्ये …

हिमालय: संस्कृत निबंध Read More »

संस्कृत गद्य साहित्य का विकास

संस्कृत वाडमय में गद्य का अतिशय महत्वपूर्ण स्थान है। जब हम गद्य के उद्भव के विषय में विचार करते हैं तो इस निष्कर्ष पर पहुंचते हैं कि मानव ने प्रारंभ में गद्य में ही परस्पर वार्तालाप प्रारंभ किया होगा। जब उसने अपने मनोभावों को साहित्यिक रूप में प्रस्तुत करना चाहा होगा तो उसकी प्रारंभिक अभिव्यक्त गद्य में हुई होगी, क्योंकि प्राथमिक अभिव्यक्ति छंद बद्ध या पद्य में होना संभव नहीं। अतः इस दृष्टि से विचार करने पर यह सिद्ध होता है कि पद की अपने गद्य प्राचीनतर है। परंतु छंदों बद्ध रचना सहज में कंठाग्र की जा सकती है, इस प्रकार उसे उसी रूप में बहुत समय तक सुरक्षित रखा जा सकता है, परंतु गद्य के साथ ऐसा नहीं है …

संस्कृत गद्य साहित्य का विकास Read More »

राजा शूद्रक का चरित्र चित्रण

राजा शूद्रक महाकवि वार्ड द्वारा रचित कादंबरी का प्रमुख पात्र है। कादंबरी में एक कल्पना पर आधारित 3 जन्मों की कथा को वर्णित किया गया है। शूद्रक पूर्व जन्म में राजा चंद्रापीड तथा चंद्रपीड पूर्व जन्म में स्वयं चंद्रमा थे। राजा शूद्रक के चरित्र में अनेक विशेषताएं हैं – महा विद्वान महा प्रतापी राजा कुशल शासक श्रेष्ठ व्यक्तित्व युवावस्था समय पालक जीतेंद्रीय एवं धैर्यवान महा विद्वान राजा शूद्रक महा पराक्रमी होते हुए अनेक शास्त्रों के ज्ञाता थे। उनका मंत्री भी विद्वान था। महाकवि बाण ने शूद्रक के विषय में लिखा है कि राजा शूद्रक वाणी में सरस्वती के समान तथा बुद्धि में बृहस्पति के समान थे। महा प्रतापी राजा राजा शूद्रक अत्यधिक प्रतापी राजा थे। सभी राजा उनका आदर करते …

राजा शूद्रक का चरित्र चित्रण Read More »

प्रदूषण की समस्या

प्रदूषण – वातावरण या वायुमंडल का अस्वस्थ होना तथा उसके संतुलन का डगमगा जाना। विकास और व्यवस्थित जीवन क्रम के लिए जीवधारियों को संतुलित वातावरण की आवश्यकता होती है। जब वातावरण में हानिकारक घटकों का प्रवेश हो जाता है तो वातावरण प्रदूषित हो जाता है जिसे ‘ प्रदूषण ‘ कहा जाता है ।  यह स्वयंसिद्ध है कि सभी प्राणी जन्म से लेकर मृत्यु तक सम्पूर्ण जीवनकाल में अपने पर्यावरण के सभी प्राकृतिक साधनों का मुक्त रूप से उपयोग करते हुए अपनी जैविक क्रियाएँ सम्पादित करते है। “कोई भी ऐसी प्रक्रिया जो प्राकृतिक साधनों के मुक्त उपयोग में बाधा उत्पन्न करती है , उसे प्रदूषक कहते है एवं परिणामस्वरूप उत्पन्न स्थिति को पर्यावरण प्रदूषण कहते है। “ प्राकृतिक साधनों की शुद्धता …

प्रदूषण की समस्या Read More »

शुकनास का चरित्रचित्रण

राजा तारापीड के अमात्य शुकनास एक कुशल एवं बुद्धिमान मंत्री हैं। उन्होंने अपनी प्रतिभा के बल पर राज्य का संचालन अच्छी तरह से किया था। अपने कार्यकाल में राजा के प्रति स्वामी भक्ति राज्य की देखभाल अनुशासन प्रशासन आदि का कार्य बड़ी ही निपुणता से किया है। परंतु जब युवराज चंद्रापीड का राज्याभिषेक होता है तब उन्होंने अपनी निपुणता कार्य कुशलता का परिचय देते हुए मंत्री पद की गंभीरता को और अधिक बढ़ा दिया। कुशल प्रशासक के रूप में सुखनाथ में राजकुमार चंद्रापीड का राज्याभिषेक को शुभ अवसर पर राज्य गृह में शुकनास उसे उपदेश देते हैं। यद्यपि तुम सभी विद्याओं में निपुण होकर लौटे हो परंतु उनके द्वारा उत्पन्न अहंकार अत्यधिक गहन है। जो कि सूर्य, प्रदीप एवं रत्नों …

शुकनास का चरित्रचित्रण Read More »

बाणभट्ट जीवनी

महाकवि बाणभट्ट संस्कृत गद्य के सर्वश्रेष्ठ रचनाकार हैं। उनके गद्य काव्य में हमें गद्य का चरमोत्कर्ष देखने को मिलता है। उन्होंने अपने हर्षचरित के प्रारंभ में अपने वंश आदि के संबंध में जानकारी दी है। कादंबरी के प्रारंभिक श्लोकों में भी वंश क्रम के विषय में प्रकाश डाला है। महाकवि बाणभट्ट प्रतिष्ठित वात्सायन वंश में उत्पन्न हुए थे। इस कुल में कुबेर नामक प्रकांड पंडित का जन्म हुआ। कुबेर के यहां रहने वाले तोता मैना भी इतने पंडित थे कि अशुद्ध पाठ करने वाले विद्यार्थियों का वे बीच में ठोक दिया करते थे। इन कुबेर पंडित के 4 पुत्र हुए उनके नाम थे अछूत ईशान हर और पक्षपात इन में पक्षपात के अर्थ पति नाम का एक ही पुत्र हुआ। …

बाणभट्ट जीवनी Read More »

त्याग की मूर्ति श्रीमती सोनिया गांधी

संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन की अध्यक्षा श्रीमती सोनिया गाँधी भारत के भूतपूर्व प्रधानमंत्री श्री राजीव गाँधी की धर्मपत्नी है । 21 मई 1991 को राजीव गांधी की अचानक मौत के बाद सभी की निगाहें सोनिया गाँधी पर टिक गई थीं । वे राजनीति में नहीं आई । अपने बच्चों का लालन – पालन किया किंतु कुछ सालों के बाद पूरे भारत की जनता सोनिया जी की ओर इस आशा से देख रही थी कि आगे बढ़ें और काँग्रेस का नेतृत्व करें । देश की खातिर सोनिया जी ने साहस बटोरा और गमगीन वातावरण को छोड़कर बाहर आईं । कांग्रेस का अध्यक्ष पद स्वीकार किया । वे जन्म से विदेशी थी किंतु भारतीय संस्कारों को उन्होंने इस प्रकार रचा – बसा लिया …

त्याग की मूर्ति श्रीमती सोनिया गांधी Read More »

दहेज प्रथा निबंध

दहेज प्रथा निबंध – आज भारत में अनेक समस्याएँ विद्यमान हैं उनमें दहेज प्रथा भी एक ऐसी बुराई है जो वर्तमान समाज के लिए कलंक बन गई है । यह एक ऐसी अमानवीय तथा घृणित समस्या है , जो भारतीय समाज की जड़ों को खोखला कर रही है तथा समाज की नैतिक व्यवस्था को ध्वस्त कर रही है ।  दहेज प्रथा निबंध दहेज प्रथा का आरंभ : परंपराएँ , प्रथाएँ या रीति – रिवाज मानव सभ्यता का अंग हैं । इन सभी के मूल में कोई न कोई पवित्र उद्देश्य अवश्य रहता है , पर जब इनमें स्वार्थ वृत्ति का समावेश हो जाता है , तो ये प्रथाएँ बुराइयाँ बन जाती हैं । दहेज प्रथा का आरंभ भी अत्यंत सात्विक भावना …

दहेज प्रथा निबंध Read More »

दहेज प्रथा निबंध

भारतीय समाज में नारी

भारतीय समाज में नारी की स्थिति अनेक प्रकार के विरोधों से ग्रस्त रही है। एक तरफ़ वह परंपरा में शक्ति और देवी के रूप में देखी गई है, वहीं दूसरी ओर शताब्दियों से वह ‘अबला’ और ‘माया’ के रूप में देखी गई है । दोनों ही अतिवादी धारणाओं ने नारी के प्रति समाज की समझ को, और उनके विकास को उलझाया है। नारी को एक सहज मनुष्य के रूप देखने का प्रयास पुरुषों ने तो किया ही नहीं, स्वयं नारी ने भी नहीं किया। भारतीय समाज में नारी समाज के विकास में नारी को पुरुषों के बराबर भागीदार नहीं बनाने से तो नारी पिछड़ी हुई रही ही, किंतु पुरुष के बराबर स्थान और अधिकार माँगने के नारी मुक्ति आंदोलनों ने …

भारतीय समाज में नारी Read More »

भारतीय समाज में नारी

Water and sanitation for healthy India

In India, the provision of clean drinking water has been given priority in the constitution, with article 47 confirming the duty of providing clean drinking water and improving Public health standards to the state. UN recognised the right of every human being to have to enough water for personal and domestic uses which must be safe acceptable and affordable. Water is also in the main agenda item of the sustainable development goals. Sustainable development goals number 6 special focus on this article. Ensure availability and sustainable management of water and sanitation for all Scientific management of water is increasingly recognised as being vital to India’s growth and ecosystem sustainability. The government of India is being proactive about water management and …

Water and sanitation for healthy India Read More »

महँगाई की समस्या

भारत की आर्थिक समस्याओं के अंतर्गत महँगाई की समस्या बहुत विकराल समस्या है । वस्तुओं के मूल्य इतनी तेजी से बढ़ रहे हैं कि आम आदमी को जीवनयापन करना दूभर हो गया है । बढ़ती महँगाई का चित्रण काका हाथरसी ने इन पंक्तियों में किया है वे दिन आते याद जेब में पैसे रखकर , सौदा लाते थे बाजार से थैला भरकर । धक्का मारा युग ने मुद्रा की क्रेडिट में , थैले में रुपए हैं , सौदा है पाकिट में ।। महँगाई के कारण मूल्य वृद्धि के अनेक कारण हैं जिनमें जनसंख्या की वृद्धि , कृषि उत्पादन, व्यय में वृद्धि, उत्पादकों तथा व्यापारियों की अधिक लाभ कमाने की प्रवृत्ति , मुद्रा – प्रसार एवं स्फीति , देश में बढ़ता …

महँगाई की समस्या Read More »

Balance of Payments, महँगाई

राष्ट्रभाषा हिंदी

राष्ट्रभाषा हिंदी – इस संसार के केवल मनुष्य को ही वाणी का वरदान प्राप्त है। इसके माध्यम से वह अपने मन के विचार तथा भावनाओं को बोलकर या लिखकर व्यक्त कर सकता है तथा दूसरों के विचारों को सुनकर या पढ़कर समझ सकता है। विचारों की यह अभिव्यक्ति भाषा के माध्यम से होती है । साहित्य , कला , ज्ञान – विज्ञान , दर्शन आदि सभी का आधार भाषा ही है। राष्ट्रभाषा हिंदी का अर्थ एवं आवश्यकता किसी भी स्वतंत्र देश के कुछ राष्ट्रीय चिह्न या प्रतीक होते हैं जिनमें उसकी राष्ट्र भाषा भी होती है । किसी भी देश में सबसे अधिक बोली तथा समझी जाने वाली भाषा ही वहाँ की राष्ट्र भाषा होती है । प्रत्येक राष्ट्र का …

राष्ट्रभाषा हिंदी Read More »

राष्ट्रभाषा हिंदी

समाचार पत्रों की उपयोगिता

समाचार पत्र या अख़बार, समाचारो पर आधारित एक प्रकाशन है, जिसमें मुख्यत: सामयिक घटनायें, राजनीति, खेल-कूद, व्यक्तित्व, विज्ञापन इत्यादि जानकारियां सस्ते कागज पर छपी होती है। … समाचारपत्र प्रायः दैनिक होते हैं लेकिन कुछ समाचार पत्र साप्ताहिक, पाक्षिक, मासिक एवं छमाही भी होतें हैं। समाचार किसी अनोखी या असाधारण घटना की अविलंब सूचना को कहते हैं, जिसके बारे में लोग प्रायः पहले कुछ न जानते हों, लेकिन जिसे तुरंत ही जाने की अधिक से अधिक लोगों की रुचि हो ।” समाचार पत्र परिभाषा समाचार क्या है ? इसे एक उदाहरण से समझिए किसी कुत्ते ने किसी व्यक्ति को काटा तो कोई विशेष बात नहीं हुई, प्रायः ऐसा होता ही रहता है, लेकिन किसी व्यक्ति ने किसी कुत्ते को काट खाया हो तो यह समाचार बन जाता …

समाचार पत्रों की उपयोगिता Read More »

समाचार पत्रों की उपयोगिता

विद्यार्थी जीवन

विद्यार्थी जीवन – भारतीय संस्कृति में मानव जीवन को चार भागों ( आश्रमों ) में विभक्त किया गया है – ब्रह्मचर्य आश्रम , गृहस्थ आश्रम , वानप्रस्थ आश्रम तथा संन्यास आश्रम । जीवन का पहला आश्रम ब्रह्मचर्य आश्रम ही विद्यार्थी जीवन है । जीवन के इस भाग में विद्या का अध्ययन किया जाता था । विद्यार्थी का अर्थ है विद्या पाने की इच्छा रखने वाला विद्या + अर्थी ।  विद्यार्थी जीवन का महत्त्व : विद्यार्थी जीवन मानव जीवन का सर्वश्रेष्ठ काल है । इस काल में छात्र जो कुछ सीखता है , वही उसके जीवन भर काम आता है । यही काल पूरे जीवन की आधारशिला का निर्माण करता है । आधारशिला जितनी मजबूत होती है , भवन भी उतना …

विद्यार्थी जीवन Read More »

केंद्र सरकार के शैक्षिक उत्तरदायित्व

Roles of Aganwadi workers

Under the ICDS Scheme, Aganwadi services were launched in 1975 as a pilot project covering 33 blocks in the country. To improve nutritional and health status of children in the age group 0 to 6 years. To lay the foundation for proper psychological physical and social development of the child To reduce the incidence of mortality morbidity and nutrition and school dropouts To achieve effective coordination of policies and implementation strategies among the various departments for promoting child development. To enhance capability of the mothers to look after the normal health and nutritional needs of their children through proper nutrition and health education. Intersectoral convergence is inbuilt and integral to the Anganwadi services. The target group for the services are …

Roles of Aganwadi workers Read More »

Educating masses on health and nutrition

Changing foods habits with reduced physical activity is a growing phenomenon around the world. People are consuming more foods high in energy, saturated fats, free sugars, salt and less of fruits. Nutritious food is a vital cornerstone of health. Health awareness news to be imported to provide knowledge and skill regarding relationship between good diet, physical activity and health. There is a consistent rise in the problem of undernutrition micronutrient deficiencies obesity and diet related chronic diseases across the globe. Energy imbalance may result in poor physical and cognitive development morbidity and mortality as well as multi to the laws of human potential does affecting social economic development. Many developing Nations including India are presently dealing with health concerns at …

Educating masses on health and nutrition Read More »

Roles and responsibilities of ASHA Workers

Recently as a routine and recurring incentives ASHAs get at least rupees 2000 per month along with the benefits of PM Jeevan Jyoti Bima Yojana and PM Suraksha Bima Yojana. Every village in the country is to have and asha worker and a trained female community health activist, selected from the village itself and accountable to its useful for whom civil work as an interface between the community and the public health system. An ASHA is primarily a literate women resident of the village preferably 10th standard pass who is Susan through a rigorous selection process involving various community group, self help group, anganbadi institution and district, nodal officer, village health committee and gram sabha. Her capacity building process is …

Roles and responsibilities of ASHA Workers Read More »

हर्षचरित कथावस्तु

महाकवि बाणभट्ट की कीर्ति कौमुदी की विस्तारक दो रचनाएं हर्षचरित और कादंबरी हैं हर्षचरित महाकवि बाणभट्ट की प्रथम रचना है यह गद्य विद्या में आख्यायिका है। इसमें कुल 8 उच्छवास हैं प्रथम तीन उच्छवासो में महाकवि बाणभट्ट ने आत्मकथा को प्रस्तुत किया है और शेष उच्छवासों में सम्राट हर्ष के संबंध में निरूपण किया। इसकी संक्षिप्त कथावस्तु इस प्रकार है- हर्षचरित कथावस्तु प्रथम उच्छवास में कभी अपने वंश का परिचय देता है। इसके लिए वह एक विस्तृत काल्पनिक कथा प्रस्तुत करता है। इसी में उन्होंने अपने जन्म और बाल्यावस्था का उल्लेख किया है। द्वितीय उच्छवास में ग्रीष्म की प्रखरता और राजद्वार का वर्णन किया गया है। तृतीय उच्छवास में बाण राजा से भेंट कर और उनके विश्वसनीय बनकर घर लौटते …

हर्षचरित कथावस्तु Read More »

कादम्बरी कथावस्तु

कादम्बरी ना केवल बाणभट्ट की अपितु संस्कृत गद्य साहित्य की उत्कृष्टतम कृति है। इसमें महाकवि बाणभट्ट की मौलिक प्रतिभा झलक रही है। इसकी संक्षिप्त कथावस्तु इस प्रकार है। कादम्बरी कथावस्तु विदिशा में शूद्रक नाम का प्रख्यात राजा राज्य करता था। एक दिन उसके पास एक चांडाल कन्या अत्यंत मेधावी शुक को लेकर पहुंचती है। सुखराज आसोतरा को वृंदावन में अपने जन्म से लेकर महर्षि जाबालि के आश्रम में पहुंचने तक के वृतांत को सुनाता है। वह वृतांत इस प्रकार है – अत्यंत समृद्ध उज्जैनी के राजा तारापीड और रानी विलासवती अपनी तपस्या के द्वारा चन्द्रापीड नामक पुत्र रत्न को प्राप्त करते हैं। विद्या अध्ययन के पश्चात राजकुमार चन्द्रापीड अपने पिता के अमात्य सुक नास के पुत्र वैशम्पायन के साथ दिग्विजय …

कादम्बरी कथावस्तु Read More »

अनुशासनम् संस्कृत निबंध

अनुशासनम् संस्कृत निबंध परीक्षा की दृष्टि से बहुत ही महत्वपूर्ण है। अनुशासन से दुनिया की हर एक चीज प्राप्त की जा सकती है। अनुशासन से ही इंसान भगवान बन जाता है। अनुशासन संस्कृत निबंध को मुख्य बिंदुओं में पढ़ेंगे- अनुशासनस्य स्वरूपं विनयस्य महिमा राष्ट्र जीवने अनुशासनम् छात्रस्य जीवने अनुशासनम् आवश्यकम् 1. अनुशासनस्य स्वरूपं किम् इदम् अनुशासनं इति? ‘शासन’ पदस्य अर्थ आज्ञा इति। अनुशासनं इति पदस्य अर्थ आज्ञापालनं इति। आज्ञापालनं स्वयं स्वीकृतम् नियम पालनम् च इत्यादय: गुणा: अनुशासने समायान्ति। 2. विनयस्य महिमा प्राचीन संस्कृत साहित्य विनय इत्यस्य महिमा बहुश: वर्णित: दृश्यते। विनय मधुर: स्वाभाव सर्वप्रिय: वर्तते। विनयात् जन: पात्रतां याति। अयं विनय: एवं अधुना अनुशासन पदेन कथ्यते। 3. राष्ट्र जीवने अनुशासनम् वय भारतीय: स्वतंत्र-राष्ट्रस्य नागरिका: स्म। अस्माकं एकम संविधान अस्ति। तत्र …

अनुशासनम् संस्कृत निबंध Read More »

Appropriate nutrition for women and children

Appropriate nutrition and good health are important contributors to human resource development. Long-term malnutrition leads to stunting wasting and non communicable diseases increased morbidity and mortality as well as reduced work capacity. All these are responsible for causing huge economic losses to the country. Scenes widespread malnutrition is largely due to the dietary inadequate household it patterns needs to be improved- both in terms of quantity and quality by incorporating a variety of foods. Appropriate Nutrition Thus an appropriately well balanced diet comprising a variety of foods needs to be advocated to the masses. Our nutrients needs are affected by age, gender physical activity body composition growth rate psychological distress pathological conditions and many other factors. Indian council of medical …

Appropriate nutrition for women and children Read More »

ओलंपिक खेल

सर्वप्रथम ओलंपिक खेल 776 ई. पूर्व हुए थे। ओलंपिक खेल गिरी के देवता ज्यूस के सम्मान में हुए थे। सर्वप्रथम ओलंपिक खेल यूनान के ओलंपिया में हुए थे। आधुनिक ओलंपिक खेलों का शुभारंभ 1896 ईसवी में हुआ था। आधुनिक ओलंपिक खेलों का आयोजन हर 4 वर्ष बाद होता है। जिसका शुभारंभ एथेंस से हुआ था। ओलंपिक खेलों का आदर्श वाक्य सीटियस, अल्टियस, कोर्टियस। जिसका अर्थ है तेज, ऊंचा और बलवान। ओलंपिक खेल ओलंपिक खेलों का आयोजन अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति करती है। ओलंपिक खेल का जन्मदाता बैरोन पियरे डि कुबर्टिन को माना जाता है। ओलंपिक ध्वज का विधिवत उद्घाटन 1914 पेरिस में हुआ था। ओलंपिक में महिलाओं की भागीदारी सन उन्नीस सौ से प्रारंभ हुई। 1916 1940 1944 में ओलंपिक खेलों …

ओलंपिक खेल Read More »

ओलंपिक खेल

राष्ट्रीय कप व ट्राफियां

हॉकी से संबंधित कप व ट्राफियां बेटन कप रंगास्वामी कप आगा खां कप बेगम रसूल ट्रॉफी (महिला) महाराजा रणजीत सिंह गोल्ड कप लेडी रतन टाटा ट्रॉफी गुरुनानक चैंपियनशिप (महिला) ध्यानचंद ट्रॉफी नेहरू ट्रॉफी सिंधिया गोल्ड कप इंदिरा गांधी गोल्ड कप वेलिंगटन कप मुरुगप्पा गोल्ड कप रिने फ्रॉक ट्रॉफी फुटबॉल से संबंधित कप व ट्राफियां डीसीएम ट्रॉफी डूरंड कप रोवर्स कप बी सी राय ट्रॉफी संतोष ट्रॉफी आईएस ए ट्रॉफी सुब्रतो मुखर्जी कप आशुतोष मुखर्जी ट्रॉफी फनफेडरेशन कप क्रिकेट से संबंधित कप व ट्राफियां रणजी ट्रॉफी ईरानी ट्रॉफी दिलीप ट्रॉफी सीके नायडू ट्रॉफी रानी झांसी ट्रॉफी देवधर ट्रॉफी जीडी बिरला ट्रॉफी रोहिंटन बारिया ट्रॉफी मोइनुद्दौला गोल्ड कप टेबल टेनिस से संबंधित कप व ट्राफियां बर्नाबेलेक कप (पुरुष) जयलक्ष्मी कप (महिला) राजकुमारी …

राष्ट्रीय कप व ट्राफियां Read More »

राष्ट्रीय कप व ट्राफियां

Nutrition: A Public health priority

Nutrition is certainly a policy issue and women and children alone, as the country has moved away from the selective faces of the MDGs to the more comprehensive SDGs. The increasing version of communicable diseases as well as overnutrition are leading to a complex policy challenges. Hence, while government policies and programs are converging and taking steps to management nutrition the most important factor affecting positive change will be have your change of the population, where individuals and communities make informed choices regarding their nutrition needs and the food they eat and also changing to a healthy lifestyle which strongly compounds the benefit of the healthy eating. Nutrition The definition given by the British nutrition foundation is the study of …

Nutrition: A Public health priority Read More »

Health system: towards a new India

In its three year action agenda, NITI Ayog call to for a new wave of institution building with a strong and a proactive stewardship role by the government to overcome the persistent challenges while leveraging the potential of mixed health system. The government has launched several reform initiatives over the last few years which need to be rigorously implemented. Additionally, the key enables of health system reform such as financing organisation and provision of service delivery as well as digital help need to be strengthened. Health system: towards a new India India had made noteworthy strides on health and nutrition over the last two decades. Given the size, complexity and diversity of our country, the importance of these improvements in …

Health system: towards a new India Read More »

Health and nutrition overview and the way forward

Nutrition is an essential part of better health and the ancient systems of medicines followed that principal health and nutrition contribute to human capital formation and the growth and development of a nation. It is time to consider new approaches to tackle double burden of malnutrition andar nutrition and obesity at the same time. The focused attention and tailor-made stretches for specifically level population groups such as women in reproductive age group children and all rural residents are needed. The interlinking between health and nutrition has been recognised scenes ages good nutritional status ensure that individual can fight diseases causing agents stage healthy reproductive to the society and contribute to overall development. The challenge of nutrition is multilayered. The terminology …

Health and nutrition overview and the way forward Read More »

Health and Nutrition – Prime movers of the nation’s development

It is a fact that better health and nutrition not only have a positive impact on individual development but also contributes significantly to the overall progress of the country. It would not be exaggeration to call name the veins of the country’s progress. Health and nutrition not only play a vital role in making human life dynamic table and prosperous but it also has the potential to empower develop and strengthen the nation. Article 21 of the constitution of India guarantees every citizen of the country have the right to live with dignity and protection of personal liberty. The supreme court has also held the right to live with human dignity as described in article 21 of the constitution is …

Health and Nutrition – Prime movers of the nation’s development Read More »