शैक्षिक निर्देशन एवं परामर्श

निर्देशन अर्थ उद्देश्य विशेषताएं व्यावसायिक निर्देशन
भारत में निर्देशन की समस्याएं शैक्षिक निर्देशन
शैक्षिक व व्यावसायिक निर्देशन में अंतर एक अच्छे परामर्शदाता के गुण व कार्य
परामर्श अर्थ विशेषताएं उद्देश्य समूह निर्देशन
व्यक्तित्व समूह गतिशीलता
समूह परामर्श सूचना सेवा
बुद्धि रुचि

व्यक्तित्व

व्यक्तित्व को व्यक्ति के संपूर्ण व्यवहार का दर्पण कहा जाता है। यह व्यक्ति के समूचे व्यवहार को प्रभावित करता है। व्यक्तित्व व्यक्ति के सामाजिक, शारीरिक, मानसिक तथा संवेगात्मक संरचना का योग है जो इच्छाओं, रुचियों, आदर्शों व्यवहारों, तौर-तरीकों, ढंगो, आदतों, स्वभावों तथा लक्षणों के रूप में प्रकट किया जाता है। वर्तमान शिक्षा का मुख्य उद्देश्य व्यक्तित्व का स्वस्थ संतुलित तथा सर्वांगीण विकास करना है। व्यक्तित्व के सर्वांगीण विकास के लिए यह आवश्यक है कि बालकों की शिक्षा उनकी व्यक्तिगत विभिन्न नेताओं के आधार पर प्रदान की जाए तथा बालक के व्यक्तित्व के मूलभूत गुणों का पता लगाया जाए। व्यक्तित्व के गुणों का पता लगाना ही व्यक्तित्व के गुणों का माप कहा जाता है। व्यक्तित्व शब्द का अर्थ ऐतिहासिक दृष्टि से …

व्यक्तित्व Read More »

भारतीय समाज में धर्म की भूमिका, व्यक्तित्व

रुचि

प्रत्येक व्यक्ति वातावरण की किसी न किसी वस्तु में रुचि रखता है। रुचि से तात्पर्य व्यक्ति के किसी वस्तु या विशेष के प्रति चाहत या लगाव से हैं। जैसे किसी व्यक्ति की क्रिकेट खेलने में, किसी की कविता लिखने में, तो किसी की चित्रकारी में रुचि होती है। रुचि किसी व्यवसाय या पाठ्यक्रम या पाठ्य विषयों की पसंद का नाम है। रुचि रुचि किसी भी कार्य के लिए चालक शक्ति तथा प्राप्ति के लिए महत्वपूर्ण कारक का काम देती है। रुचि के कारण व्यक्ति में पूर्ण एकाग्रता और ध्यान केंद्रिता पैदा होती है। प्रत्येक व्यक्ति के जीवन में खुशियों का महत्वपूर्ण स्थान है क्योंकि एक व्यक्ति क्या और कैसा करेगा, यह बहुत कुछ उसकी रुचियों के द्वारा ही निर्धारित होता …

रुचि Read More »

रुचि

बुद्धि

बुद्धि एक अत्यंत जटिल मानसिक प्रक्रिया है यद्यपि बुद्धि वास्तव में क्या है? इस पर विद्वानों एवं मनोवैज्ञानिकों में वाद विवाद चलता आ रहा है। पुराने समय में जो छात्र अधिक किताबों को रट लिया करता था, उनको बुद्धिमान समझा जाता था। लेकिन वर्तमान समय में मनोवैज्ञानिकों ने बुद्धि की व्याख्या करने की कोशिश की है।वास्तविक रूप में यदि देखा जाए तो बुद्धि के स्वरूप की व्याख्या कर सकना असंभव है। बुद्धि की परिभाषा आधुनिक मनोवैज्ञानिकों ने बुद्धि के रूप स्वरूप को निश्चित करने के लिए अलग-अलग परिभाषाएं दी हैं। कुछ महत्वपूर्ण मनोवैज्ञानिकों के द्वारा बुद्धि के संबंध में दी गई परिभाषाएं इस प्रकार हैं- अमूर्त चिंतन की योग्यता ही बुद्धि है। बुद्धि पहचानने तथा सुनने की शक्ति है। अवधान …

बुद्धि Read More »

बुद्धि

सूचना सेवा

सूचना सेवा – निर्देशन कार्यक्रम में सूचनाओं का बहुत अधिक महत्व है। सूचनाओं की जानकारी छात्र एवं निर्देशन प्रदाताओं दोनों के लिए आवश्यक है। व्यक्ति के जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में सूचनाओं की आवश्यकता होती है। निर्देशन के क्षेत्र में सूचनाओं का महत्व निम्न रूप से देखा जा सकता है- सूचना सेवा छात्र को विश्वसनीय तरीके से सूचनाएं प्रदान करती है। इन सेवाओं के माध्यम से आवश्यक, उपयोगी तथा संगत एवं समुचित जानकारी प्राप्त करने में सहायता मिलती है। सूचना संप्रेषण की क्रिया अल्पव्ययी बनाई जा सकती है। सूचनाओं के द्वारा छात्र में वांछनीय स्तर की संवेदनशीलता का विकास किया जा सकता है, जिससे छात्र स्वयं को जाने समझे और उनकी भावनाओं के लिए आवश्यक कदम उठा सके। सूचना सेवा …

सूचना सेवा Read More »

वुड का घोषणा पत्र, संप्रेषण,

समूह गतिशीलता

समूह गतिशीलता डायनॉमिक्स भौतिक शास्त्र से लिया गया है। डायनॉमिक्स ग्रीक भाषा से लिया गया है जिसका अर्थ है शक्ति। इस प्रकार समूह गत्यात्मकता समूह में छिपी हुई शक्ति के अध्ययन से संबंधित विषय है। समूह गति विज्ञान उन विषयों का ज्ञान देता है जो एक समूह में सक्रिय होती हैं। उन व्यक्तियों का अध्ययन समूह गति विज्ञान का अन्वेषण का विषय होता है। यह अन्वेषण उस दिशा में होते हैं जिससे पता चल जाए कि शक्तियां किस प्रकार उभरती हैं, किन देशों में यह शक्तियां सक्रिय होती हैं, इनके क्या परिणाम होते हैं और किस प्रकार से उनका रूपांतरण किया जा सकता है अर्थात समूह गति विज्ञान वह विज्ञान है जो समूह को गतिशील करने वाली शक्तियों का अध्ययन …

समूह गतिशीलता Read More »

Career After 12th, समूह गतिशीलता

समूह परामर्श

समूह परामर्श – आधुनिक जीवन में समूह का अधिक महत्व है। व्यक्ति अपने जीवन काल में किसी ना किसी प्रकार के समूह के संपर्क में रहता है। मनोवैज्ञानिक कैंप ने “सामूहिक परामर्श के आधार” नामक पुस्तक में लिखा है – व्यक्तियों को जीवन के सभी क्षेत्रों में अर्थ पूर्ण संबंधों की आवश्यकता होती है। इन्हीं संबंधों के आधार पर बहुतों को जीवन में उद्देश्य व महत्व से संबंधित ज्ञान प्राप्त होता है। अतः सामूहिक परामर्श में रुचि व संबंधों का प्रयोग अधिक होने लगा है। समूह परामर्श समूह परामर्श में समूह को सार्थक अनुभव प्रदान किए जाते हैं जिससे बालक सामूहिक व्यवहार में दक्ष हो सके। समूह परामर्श एक प्रक्रिया है जिसमें एक परामर्श अब एक ही समय में कई …

समूह परामर्श Read More »

समूह परामर्श

समूह निर्देशन

निर्देशन कार्यक्रम के आधारभूत तत्वों को मितव्ययता, कुशलता एवं प्रभावी ढंग से पूर्ण करने का एक साधन समूह निर्देशन है।यह निर्देशन की एक पद्धति है जिसके द्वारा छात्रों को उनके विकास में सहायता प्रदान की जाती है। सामूहिक निर्देशन क्रियाएं अन्य क्रियाओं में सहयोग प्रदान करती हैं। उनका विकल्प नहीं है। निसंदेह पहले निर्देशन पर व्यक्तिगत प्रक्रिया के रूप में विशेष बल दिया गया किंतु वर्तमान में शैक्षिक, सामाजिक व सांस्कृतिक मूल्यों में परिवर्तन के फल स्वरुप सामूहिक निर्देशन की ओर विद्वानों का ध्यान आकृष्ट हुआ। विद्यार्थियों की बहुत सी आवश्यकताओं की पूर्ति सर्वोत्तम ढंग से समूह में कार्य करने पर होती है। निर्देशन सेवाओं में संतुलित कार्यक्रम में व्यक्तिगत व सामूहिक कार्य एक दूसरे के पूरक होते हैं। समूह …

समूह निर्देशन Read More »

व्यावसायिक निर्देशन, शैक्षिक पर्यवेक्षण, समूह निर्देशन

एक अच्छे परामर्शदाता के गुण व कार्य

एक अच्छे परामर्शदाता में किसी एक विशेषता का समावेश न होकर अनेक गुणों एवं विशेषताओं का समावेश होता है। एक परामर्शदाता के गुणों एवं विशेषताओं के बारे में हार्डी महोदय का कहना है- यदि कोई व्यक्ति उन विशेषताओं की सूची तैयार करें जिनका परामर्शदाता में होना आवश्यक है तो सूची सर्वोत्तम गुणों के संग्रह में समान हो सकती है। केलर के अनुसार एक परामर्शदाता में निम्नलिखित गुणों का होना आवश्यक है- गहरा विशिष्ट ज्ञान साक्षात्कार, परीक्षण तथा नियोजन की तकनीक में कुशलता। अच्छी आधार शक्ति। विवेकशीलता, उत्साह एवं संवेदनशीलता, सहानुभूति। एक अच्छे परामर्शदाता के गुण कुछ मुख्य विद्वानों के अनुसार एक अच्छे परामर्शदाता में निम्नलिखित गुणों एवं विशेषताओं का होना आवश्यक है- परामर्शदाता को छात्रों की सभी प्रकार की सूचियों …

एक अच्छे परामर्शदाता के गुण व कार्य Read More »

समूह निर्देशन

परामर्श अर्थ विशेषताएं उद्देश्य

निर्देशन तथा परामर्श एक सिक्के के दो पहलू हैं। एक दूसरे के अभाव में दोनों निष्प्राण रहते हैं। परामर्श शब्द दो व्यक्तियों के संपर्क को व्यक्त करता है। परामर्श प्रक्रिया में एक परामर्श देने वाला और दूसरा परामर्श चाहने वाला या परामर्श प्रार्थी होता है। परामर्श की प्रक्रिया के अंतर्गत उन सभी प्रकार की स्थितियों का समावेश होता है, जिनमें परामर्शदाता परामर्श चाहने वाले की समस्या को समझाने का प्रयास करता है। उसके बारे में परामर्शदाता तथा परामर्श चाहने वाले दोनों के बीच विचारों का आदान-प्रदान अर्थात् पारस्परिक बातचीत होती है और अंत में परामर्श चाहने वाले अर्थात् परामर्श प्रार्थी की समस्या का समाधान करने में परामर्शदाता सहायता करता है। परामर्श विभिन्न निर्देशन शास्त्रियों ने निर्देशन सेवाओं को ध्यान में …

परामर्श अर्थ विशेषताएं उद्देश्य Read More »

निर्देशन, पर्यवेक्षण

शैक्षिक व व्यावसायिक निर्देशन में अंतर

शैक्षिक तथा व्यावसायिक निर्देशन के बीच परस्पर गहरा संबंध है। शिक्षा का उद्देश्य व्यक्ति को अजीब का कमाने के योग्य बनाना है। व्यावसायिक निर्देशन का आधार शैक्षिक उपलब्धि है। शिक्षा शास्त्री दोनों के रूप में कोई अंतर नहीं मानते परंतु फिर भी सूक्ष्मता की दृष्टि से दोनों में निम्न अंतर पाया जाता है। शैक्षिक व व्यावसायिक निर्देशन में अंतर क्रम संख्या शैक्षिक निर्देशन व्यावसायिक निर्देशन 1. शैक्षिक निर्देशन में छात्रों को विभिन्न शैक्षिक विषयों तथा संस्थाओं के बारे में जानकारी प्रदान की जाती है। व्यावसायिक निर्देशन में विभिन्न व्यावसायिक विषयों तथा व्यावसायिक संस्थाओं के बारे में जानकारी प्रदान की जाती है। 2. शैक्षिक निर्देशन में छात्रों के बौद्धिक विकास पर अधिक जोर दिया जाता है। व्यावसायिक निर्देशन में व्यावहारिक पक्ष …

शैक्षिक व व्यावसायिक निर्देशन में अंतर Read More »

Career After 12th, समूह गतिशीलता

शैक्षिक निर्देशन

शैक्षिक निर्देशन – शिक्षा के क्षेत्र में अपव्यय तथा औरोधन बहुत है। परीक्षा में असफल रहने वालों की संख्या बढ़ती जा रही है। रुचियो, प्रतिभाओं और क्षमताओं को धारण करने वाले विद्यार्थियों का विकास नहीं हो रहा। विद्यालय तथा जीवन में सामंजस्य प्राप्त करने में विद्यार्थियों को कठिनाई का सामना करना पड़ रहा है। ऐसी स्थिति में शैक्षिक निर्देशन का महत्व बढ़ रहा है। अधिकतर ‌’शैक्षिक निर्देशन का अर्थ’ निर्देशन के रूप में शिक्षा से लगाया जाता है लेकिन यह उचित नहीं है। वास्तव में शैक्षिक निर्देशन का संबंध मुख्य रूप से शिक्षा की इस प्रकार की समस्या से है। जिन्हें छात्र अपने व्यवसायिक तैयारियों के सिलसिले में विभिन्न व्यवसायों के अध्ययन में महसूस करते हैं। विभिन्न विद्वानों ने शैक्षिक …

शैक्षिक निर्देशन Read More »

निर्देशन, पर्यवेक्षण

भारत में निर्देशन की समस्याएं

भारत में निर्देशन की समस्याएं – भारत में निर्देशन का प्रारंभ अपनी शिशु अवस्था में है और धीरे-धीरे इसका विकास हो रहा है, परंतु इस विकास में निर्देशन निम्नलिखित समस्याओं का सामना कर रहा है। इसकी वजह से इसकी प्रगति धीमी है- भारत में निर्देशन की समस्याएं भारत में निर्देशन की समस्याएं निम्न है- अप्रशिक्षित शिक्षक शिक्षकों पर अति कार्यभार प्रभाकृत टेस्टों का अभाव विद्यालयों में पाठ्यक्रम एक राष्ट्रभाषा का अभाव विद्यालयों की दयनीय आर्थिक व्यवस्था शिक्षा में अन्वेषण ने अभी तक प्रवेश नहीं किया जाति प्रथा त्रुटिपूर्ण परीक्षा प्रणाली सूचनाओं का संकलन तथा विश्लेषण करने के व्यवस्थित संगठन का भाव बेकारी तथा अर्द्धबेकारी 1. अप्रशिक्षित शिक्षक भारत में वैसे ही साधारण शिक्षा प्रदान करने हेतु प्रशिक्षित शिक्षकों का अभाव …

भारत में निर्देशन की समस्याएं Read More »

भारत में निर्देशन की समस्याएं

व्यावसायिक निर्देशन

व्यावसायिक निर्देशन – संसार में भिन्न भिन्न प्रकार के कार्य और व्यवसाय हैं। सभी प्रकार के व्यक्ति सभी कार्यों को नहीं कर सकते। सभी कार्यों और व्यवसाय से संबंधित योग्यताएं सभी व्यक्ति में समान नहीं होती। किसी विषय या व्यवसाय में सफलता प्राप्त करने के लिए व्यक्ति में कुछ जन्मजात गुणों का होना आवश्यक होता है। व्यक्ति के इन जन्मजात गुणों के कारण ही कोई व्यक्ति एक सफल डॉक्टर, प्रोफ़ेसर, इंजीनियर, प्रशासक, सैनिक आदि बनता है। व्यक्ति में निहित गुणों, योग्यताओं, सूचियों और क्षमताओं के अनुसार जब कोई विषय सुनता है तो उसे उसमें पूर्ण सफलता प्राप्त होती है। व्यक्ति में निहित इन विभिन्न गुणों के अनुसार किसी विषय का चुनाव करने में सहायता देने के कार्य को व्यवसायिक संगठन …

व्यावसायिक निर्देशन Read More »

प्रबन्धन,

निर्देशन अर्थ उद्देश्य विशेषताएं

निर्देशन का अर्थ है- पथ प्रदर्शन करना, निर्देशन करना या संकेत करना। यह एक व्यक्तिगत कार्य है जो किसी व्यक्ति को उसकी समस्याओं के समाधान के लिए दिया जाता है। यह ऐसी प्रक्रिया है जिसमें अनुभवी व्यक्ति अनुभवहीन प्राणी को निर्देशित करता है अर्थात किसी व्यक्ति की सूची योग्यता व क्षमता को ध्यान में रखते हुए उसके आधार पर पथ प्रदर्शन करना ही निर्देशन कहलाता है। विभिन्न शिक्षा शास्त्रियों ने निर्देशन को तीन अर्थों में लिया है- व्यापक अर्थ में किसी भी व्यक्ति को सेवा के रूप में दी गई सहायता। विशिष्ट अर्थ में निर्देशन सेवा के रूप में। शिक्षा के उपक्रिया के रूप में। निर्देशन का लक्ष्य व्यक्ति और समाज में सामंजस्य स्थापित करना है। व्यक्ति का संपूर्ण विकास …

निर्देशन अर्थ उद्देश्य विशेषताएं Read More »

निर्देशन, शैक्षिक निर्देशन