समाजशास्त्र

संचार

संचार से आशय शब्दों, पत्रों, सूचनाओं अथवा संदेशों द्वारा विचारों एवं सम्मतियों के विनिमय से होता हैं। संचार एक निरंतर चलने वाली प्रक्रिया हैं। संचार में सभी चीजें शामिल हैं जिनके माध्यम से व्यक्ति अपनी बात दूसरे व्यक्ति के मस्तिष्क में डालता है यह अर्थ का पुल है, इसके अंतर्गत कहने, सुनने और समझने की व्यवस्थित तथा निरंतर प्रक्रिया सम्मिलित होती है संचार द्विमार्गीय की प्रक्रिया है। संचार के साधनों की उपयोगिता सूचना एवं संचार प्रौद्योगिकी द्वारा प्रदत्त विभिन्न साधन लाभदायक हैं। 1. इंटरनेट इस सुविधा के माध्यम से आप प्राथमिक स्तर से लेकर उच्च स्तर की शिक्षा से संबंधित जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। वर्तमान समय में यह सूचना जानकारी प्राप्ति का मुख्य साधन बन गया है। वर्तमान समय …

संचार Read More »

Syllabus

दहेज प्रथा निबंध

दहेज प्रथा निबंध – आज भारत में अनेक समस्याएँ विद्यमान हैं उनमें दहेज प्रथा भी एक ऐसी बुराई है जो वर्तमान समाज के लिए कलंक बन गई है । यह एक ऐसी अमानवीय तथा घृणित समस्या है , जो भारतीय समाज की जड़ों को खोखला कर रही है तथा समाज की नैतिक व्यवस्था को ध्वस्त कर रही है ।  दहेज प्रथा निबंध दहेज प्रथा का आरंभ : परंपराएँ , प्रथाएँ या रीति – रिवाज मानव सभ्यता का अंग हैं । इन सभी के मूल में कोई न कोई पवित्र उद्देश्य अवश्य रहता है , पर जब इनमें स्वार्थ वृत्ति का समावेश हो जाता है , तो ये प्रथाएँ बुराइयाँ बन जाती हैं । दहेज प्रथा का आरंभ भी अत्यंत सात्विक भावना …

दहेज प्रथा निबंध Read More »

दहेज प्रथा निबंध

भारतीय समाज में नारी

भारतीय समाज में नारी की स्थिति अनेक प्रकार के विरोधों से ग्रस्त रही है। एक तरफ़ वह परंपरा में शक्ति और देवी के रूप में देखी गई है, वहीं दूसरी ओर शताब्दियों से वह ‘अबला’ और ‘माया’ के रूप में देखी गई है । दोनों ही अतिवादी धारणाओं ने नारी के प्रति समाज की समझ को, और उनके विकास को उलझाया है। नारी को एक सहज मनुष्य के रूप देखने का प्रयास पुरुषों ने तो किया ही नहीं, स्वयं नारी ने भी नहीं किया। भारतीय समाज में नारी समाज के विकास में नारी को पुरुषों के बराबर भागीदार नहीं बनाने से तो नारी पिछड़ी हुई रही ही, किंतु पुरुष के बराबर स्थान और अधिकार माँगने के नारी मुक्ति आंदोलनों ने …

भारतीय समाज में नारी Read More »

भारतीय समाज में नारी

विद्यार्थी जीवन

विद्यार्थी जीवन – भारतीय संस्कृति में मानव जीवन को चार भागों ( आश्रमों ) में विभक्त किया गया है – ब्रह्मचर्य आश्रम , गृहस्थ आश्रम , वानप्रस्थ आश्रम तथा संन्यास आश्रम । जीवन का पहला आश्रम ब्रह्मचर्य आश्रम ही विद्यार्थी जीवन है । जीवन के इस भाग में विद्या का अध्ययन किया जाता था । विद्यार्थी का अर्थ है विद्या पाने की इच्छा रखने वाला विद्या + अर्थी ।  विद्यार्थी जीवन का महत्त्व : विद्यार्थी जीवन मानव जीवन का सर्वश्रेष्ठ काल है । इस काल में छात्र जो कुछ सीखता है , वही उसके जीवन भर काम आता है । यही काल पूरे जीवन की आधारशिला का निर्माण करता है । आधारशिला जितनी मजबूत होती है , भवन भी उतना …

विद्यार्थी जीवन Read More »

केंद्र सरकार के शैक्षिक उत्तरदायित्व

मृदा प्रदूषण

मृदा के किसी भी भौतिक रासायनिक और जैविक घटक में आवांछनीय परिवर्तन को मृदा प्रदूषण कहते हैं। मृदा प्रदूषण न केवल विस्तृत वनस्पति को प्रभावित करता है बल्कि यह मिट्टी के सूक्ष्म जीवों की संख्या में परिवर्तन कर देते हैं, जो कि मृदा को उपजाऊ बनाए रखने के लिए अत्यंत आवश्यक है। मृदा प्रदूषण के स्रोत मृदा प्रदूषण करने वाले विभिन्न स्रोतों को निम्न दो भागों में विभाजित किया जा सकता है। पहला प्राकृतिक स्रोत और द्वितीय कृत्रिम स्रोत। प्राकृतिक स्रोत – जंतुओं और वनस्पति स्रोतों से प्राप्त प्रदूषक इस सूची में है- पेड़ पौधों की मृत्यु और उनके अपघटन के फल स्वरुप मृदा में कार्बनिक पदार्थ मिल जाते हैं। जो कि मृदा की उर्वरता शक्ति को बढ़ाते हैं। जंतुओं …

मृदा प्रदूषण Read More »

मृदा प्रदूषण

विस्थापन के कारण

विस्थापन के कारण – विस्थापन शब्द अंग्रेजी भाषा के Displacement शब्द से बना जिसका अर्थ है अपना स्थान बदलना। जब कोई व्यक्ति अथवा समूह किसी कारण से अपने स्थाई स्थान से हटा दिया जाता है तो इस क्रिया को विस्थापन कहते हैं। जबकि हटाए गए व्यक्ति को विस्थापित कहते हैं। उदाहरण के लिए भारत में बड़े-बड़े बांधों के बनाए जाने से उसके समीप आने वाले डूबते क्षेत्र में आने वाले गांवों तथा बस्तियों की सुरक्षा की दृष्टि से किसी अन्य क्षेत्र में बसाया जाता है यह विस्थापन का उदाहरण है। BA Second Sociology I विस्थापन के कारण विस्थापन के कारण अनेक हो सकते है। विस्थापन के प्रमुख कारण निम्न है- 1. प्राकृतिक कारण विस्थापन के इस कारण के अंतर्गत बाढ़ …

विस्थापन के कारण Read More »

विस्थापन के कारण

वृद्धों की योजनाएं

वृद्धों की योजनाएं वृद्धों की चौमुखी सहायता करने के लिए संस्थाओं द्वारा चलाई जाती हैं। वृद्धजनों की आवश्यकताओं को ध्यान में रखते हुए सरकारी और गैर सरकारी संस्थान मिलकर कार्य कर रहे हैं। वृद्धों की योजनाएं वृद्धों के लिए निम्नलिखित कल्याणकारी कार्यक्रम और योजनाएं चलाई गई है- राष्ट्रीय वृद्धजन परिषद राष्ट्रीय वृद्धावस्था पेंशन योजना केंद्रीय सहायता योजना वृद्ध आश्रम डे केयर सेंटर वृद्धों के लिए चिकित्सा सेवाएं वृद्धों के लिए गैर संस्थागत सेवाएं BA Second Sociology I 1. राष्ट्रीय वृद्धजन परिषद भारत सरकार की राष्ट्रीय नीति को दृष्टिगत रखते हुए वृद्धजनों के संबंध में 1999 में इस परिषद की स्थापना की गई। इस परिषद का प्रमुख कार्य वृद्धों की शिकायतों और कठिनाइयों को ध्यान पूर्वक सुनना और उन पर विचार …

वृद्धों की योजनाएं Read More »

वृद्धों की योजनाएं

पारिस्थितिकी

पारिस्थितिकी शब्द वर्तमान में प्रचलित Ecology शब्द का हिंदी अनुवाद है। Ecology शब्द का उद्गम ग्रीक भाषा के 2 शब्दों Oikos= House या घर तथा Logus= Study या अध्ययन से हुआ है। इस शब्द के जन्मदाता रिटर्न ए सर्वप्रथम 1807 में इस शब्द का प्रयोग किया लेकिन जर्मन वैज्ञानिक अर्नेस्ट हैकल ने इस शब्द की पूर्ण व्याख्या करके इसे परिभाषित किया। पृथ्वी पर समस्त प्राणी भौतिक वातावरण एवं उद्विकास यह प्रक्रिया पथ तथा आपसी संबंधों द्वारा जुड़े हुए हैं। एक सजीव दूसरे को भोजन व आवास प्रदान कर सकता है या एक दूसरे के लिए उपयोगी तथा हानिकारक पदार्थ पैदा कर सकता है। दोनों भोजन व आवास के लिए संघर्ष कर सकते हैं। अतः सजीव का उसके जैविक व अजैविक …

पारिस्थितिकी Read More »

Sarkari Focus

जातीय संघर्ष

भारत में जातीय संघर्ष सर्वाधिक मिलता है। स्वतंत्र भारत में जाति संघर्षों में बाढ़ सी आई है। जातीय ऊंच-नीच, भेदभाव व संकीर्णता से अनेक तत्वो, विरोधो व संघर्षों को जन्म दिया है। आज एक जाति दूसरी जाति के विरुद्ध मोर्चाबंदी किए है एक क्षेत्र दूसरे क्षेत्र के विरोध में खड़ा है। पी• एन• हक्सर Today cost is ranged against caste, region against region. आज जातिवाद जातिवाद देश की एकता में सबसे अधिक बाधक है। इससे देश का कोई भाग अछूता हुआ मुक्त नहीं। पूरा देश इनकी चपेट में है। उत्तर प्रदेश में हरिजन व सवर्ण में राजस्थान में जाट और राजपूतों में मध्य प्रदेश में ब्राह्मणों, बनियों वा राजपूतों में, बिहार में राजपूतों का भूमिहारों में, गुजरात में पाटीदार व …

जातीय संघर्ष Read More »

Sarkari Focus

जातीय संघर्ष निवारण

जातीय संघर्ष निवारण के लिए अनेक समाज शास्त्रियों ने अपने अपने सुझाव दिए हैं। स्वस्थ समाज के विकास के लिए आवश्यक है कि विकास के मार्ग की बाधाओं और समस्याओं को दूर किया जाए तथा अनुकूल परिस्थितियों का सृजन किया जाए। जातीय संघर्ष निवारण जातीय संघर्षों निवारण हेतु सुझाव निम्नलिखित हैं। जातिवाद की समाप्ति आर्थिक समानता उचित शिक्षा स्वस्थ जनमत असामाजिक तत्वों में वृद्धि सांस्कृतिक विघटन स्थिरता में बाधा शांति व व्यवस्था की समस्या लोकतंत्र व सरल अंतर्जातीय विवाह 1. जातिवाद की समाप्ति जातिवाद देश के लिए अभिशाप है। इसके रहते क्षुद्र स्वार्थों, संकीर्णता व विघटन को बढ़ावा मिलता है। जातिवाद की समस्या के समाधान के लिए इरावती कर्वे ने सभी जातियों की आर्थिक व सामाजिक समानता को आवश्यक बताया …

जातीय संघर्ष निवारण Read More »

Sarkari Focus

भारत में वृद्धो की समस्याएं

वृद्धो की समस्याएं – सामान्यत: 65 वर्ष से अधिक आयु के व्यक्तियों की गणना वृद्ध वर्ग के अंतर्गत की जाती है लेकिन भारत में जहां व्यक्ति की औसत जीवन अवधि अपेक्षाकृत कम है 69 वर्ष से अधिक आयु के व्यक्तियों को वृद्ध कहा जाता है। भारत में स्वास्थ्य सेवाओं के विकास, आयु संभावित में वृद्धि तथा मृत्यु दर में ह्रास के कारण वृद्धों की संख्या में निरंतर वृद्धि हो रही है और इसकी अधिकता के कारण इनकी स्थिति दयनीय होती जा रही है। 1969 मैं देश में वृद्धों की संख्या जनसंख्या का 6.21% जो आज बढ़कर 6.57% हो गई है। इस प्रकार देश में वृद्धों की बढ़ती हुई संख्या सामाजिक अर्थव्यवस्था के समक्ष एक गंभीर समस्या है। सन 2000 में …

भारत में वृद्धो की समस्याएं Read More »

Sarkari Focus

संघर्ष अर्थ व विशेषताएं

संघर्ष वह प्रयत्न है जो किसी व्यक्ति या समूह द्वारा शक्ति, हिंसा या प्रतिकार अथवा विरोधपूर्ण किया जाता है। संघर्ष अन्य व्यक्तियों या समूहों के कार्यों में प्रतिरोध उत्पन्न करते हुए बाधक बनता है। दूसरे शब्दों में यह कहा जा सकता है ऐसा प्रश्न जो स्वयं के स्वार्थ के लिए व्यक्तियों या सामूहिक कार्य में बाधा डालने के लिए किया जाता है वह संघर्ष कहलाता है। इसके अंतर्गत क्रोध, ग्रहण, आक्रमण, हिंसा एवं क्रूरता आदि की भावनाओं का समावेश होता है। संघर्ष संघर्ष को विभिन्न विद्वानों ने परिभाषित करते हुए लिखा है- संघर्ष वह सामाजिक प्रक्रिया है जिसके अंतर्गत शक्ति या समूह अपने उद्देश्यों की प्राप्ति विपक्षी हिंसा या हिंसा के भय द्वारा करते हैं। गिलिन संघर्ष पारस्परिक अंतः क्रिया …

संघर्ष अर्थ व विशेषताएं Read More »

संघर्ष

तलाक

तलाक – भारतीय समाज में अनेकों वैवाहिक समस्याएं विद्यमान है। दिन में एक प्रमुख समस्या तलाक या विवाह-विच्छेद की है, जोकि व्यक्तिक विघटन को प्रोत्साहित करती है। जब किसी व्यक्ति का विवाह किसी लड़की के साथ होता है तो वे दोनों पवित्र अग्नि के समक्ष मेरे लेकर एक दूसरे का सुख दुख में साथ निभाने का वादा करते हैं। किंतु जब इन दोनों के बीच कुछ कारण ऐसे उत्पन्न हो जाते हैं जिनसे दोनों में विवाद होने लगता है तो दोनों ही असंतुष्ट हो जाते हैं। यह विवाद जब अपनी चरम सीमा पर पहुंच जाते हैं तो ऐसा लगने लगता है कि इनके विवादों का समाधान असंभव है तब एक ही रास्ता बचता है कि इन दोनों को अलग अलग …

तलाक Read More »

तलाक

मानवाधिकार आयोग

भारत में राष्ट्रीय स्तर व राज्य स्तर दोनों पर मानवाधिकार आयोग की स्थापना की गई है। जिसका मुख्य उद्देश्य मानव के अधिकार का संरक्षण करना, जागरूकता फैलाना व शोध कार्य करना है। राष्ट्रीय तथा राज्य स्तरीय मानवाधिकार आयोगों का अध्ययन हम लोग करने वाले हैं। राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग मानवाधिकार संरक्षण अधिनियम 1993 की धारा 3 में प्रावधान किया गया है की केंद्रीय सरकार द्वारा राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के नाम से एक निकाय की स्थापना करेगी। इस आयोग में निम्नलिखित को शामिल किया जाएगा। एक अध्यक्ष जो सर्वोच्च न्यायालय का न्यायाधीश रह चुका हो। एक सदस्य जो उच्च न्यायालय का न्यायाधीश रह चुका हो या वर्तमान में हो। मानवाधिकारों से संबंधित व्यवहारिक ज्ञान व अनुभव रखने वाले दो सदस्य। आयोग का …

मानवाधिकार आयोग Read More »

मानवाधिकार

मानवाधिकार

मानवाधिकार का व्यक्ति के व्यक्तित्व विकास तथा समाजपयोगी कार्यों में महत्वपूर्ण स्थान होता है। अधिकार, सामाजिक जीवन की अनिवार्य आवश्यकता है। अधिकारों के बिना मानव जीवन की कल्पना नहीं की जा सकती है। राज्य द्वारा व्यक्ति के व्यक्तित्व, विकास हेतु अनेक सुविधाएं दी जाती हैं। राज्य के द्वारा व्यक्ति को प्रदान की जाने वाली बाहरी सुविधाएं ही अधिकार कहलाती हैं। मानवाधिकार मानव अधिकार ऐसे अधिकार है जो व्यक्ति से केवल मानव होने के कारण प्राप्त होने चाहिए। मानव अधिकारों का विचार एवं नागरिक अधिकार की अपेक्षा मानव अधिकारों का विचार क्षेत्र नागरिक अधिकारों की तुलना में अधिक व्यापक है। अधिक व्यापक मानव अधिकार वाले समाज की अवधारणा अधिक व्यापक है। सामान्यतया जिन अधिकारों को हम मानव अधिकारों के रूप में …

मानवाधिकार Read More »

मानवाधिकार

दहेज प्रथा

दहेज उस धन या संपत्ति को कहते हैं जो विवाह के समय कन्या पक्ष द्वारा वर पक्ष को दिया जाता है। हिंदू विवाह से संबंधित विभिन्न समस्याओं में से दहेज समस्या एक भीषण समस्या है। दहेज वह संपत्ति है जो विवाह के अवसर पर लड़की के माता-पिता या अन्य निकट संबंधियों द्वारा दी जाती है। फेयर चाइल्ड दहेज प्रथा उत्पत्ति के कारण दहेज प्रथा की उत्पत्ति के प्रमुख कारण निम्नलिखित हैं बाल विवाह – बाल विवाह अत्यंत बुरी प्रथा है जिसके कारण लड़के या लड़कियों को स्वयं अपने जीवनसाथी चुनने का अवसर नहीं मिलता और लड़के के माता-पिता दहेज लेकर उनकी शादी कर देते हैं। जीवनसाथी चुनने का सीमित क्षेत्र – जाति और उप जातियों में विवाह होने से उपयुक्त …

दहेज प्रथा Read More »

Sarkari Focus

घरेलू हिंसा

घरेलू हिंसा, भारतीय समाज में अनेक प्रकार की समस्याएं पाई जाती हैं, जिनका समाधान करने के लिए परिवार का प्रत्येक सदस्य प्रयत्नशील रहता है। कभी-कभी पारिवारिक समस्याएं इतना विकराल रूप धारण कर लेती हैं कि परिवार के सदस्यों द्वारा उनका समाधान कर पाना असंभव हो जाता है। इस स्थिति में परिवार के सदस्य हिंसा का सहारा लेते हुए हिंसात्मक रूप धारण कर लेते हैं। घरेलू हिंसा सामान्यता जब-जब परिवार के किसी सदस्य द्वारा हिंसा की जाती है तो उसे पारिवारिक या घरेलू हिंसा कहते हैं, लेकिन आज इसका आशय मुख्य रूप से महिलाओं के प्रति हिंसा से या परिवार की महिला द्वारा की जाने वाली हिंसा को पारिवारिक हिंसा के रूप में माना जाता है। आम समाज में महिला अपराधों …

घरेलू हिंसा Read More »

Sarkari Focus

दलित समस्या समाधान

दलित समस्या समाधान – जिन वर्गों का प्रयोग हिंदू सामाजिक संरचना सोपान में निरंतर स्थान रखने के लिए समुदायों के लिए किया जाता है वह दलित व अनुसूचित जातियां कहलाती हैं। ‘निम्नतम’ स्थान का आधार इन जातियों के उस व्यवसाय से जुड़ा है, जिसे अपवित्र कहा गया है। यहां पर दलितों की विवेचना अनुसूचित जाति में की गई हैं क्योंकि भारतीय संविधान में अनुसूचित जाति के रूप में इनके कल्याण हेतु अनेकों संवैधानिक प्रावधान किए गए हैं। इन्हें अछूत, हरिजन और बाह्य जातियां भी कहा जाता है। इन्हें संविधान सूची में सामाजिक, आर्थिक, धार्मिक एवं राजनीतिक दृष्टि से सुविधाएं दिलाने के उद्देश्य में शामिल किया गया है। भारतीय समाज मुद्दे एवं समस्याएं दलित समस्या दलितों की समस्याओं का अध्ययन निम्न …

दलित समस्या समाधान Read More »

दलित समस्या समाधान

पिछड़ा वर्ग समस्या समाधान सुझाव

पिछड़ा वर्ग समस्या समाधान सुझाव – पिछड़ा वर्ग शब्द का प्रयोग समाज के कमजोर वर्गों विशेषत: अनुसूचित जातियों, जनजातियों और पिछड़े वर्गों के संदर्भ में किया जाता है। भारतीय संविधान में पिछड़ा वर्ग शब्द का प्रयोग किया गया है। सामान्यत: इन वर्गों में अनुसूचित जातियों, जनजातियों, भूमिहीन श्रमिकों एवं लघु कृषकों आदि को शामिल किया जाता है। समाज में इन लोगों का स्थान अस्पृश्य जातियों से ऊपर किंतु ब्राह्मणों से होता है। भारतीय संविधान में इन वर्गों के लिए अनेकों सामाजिक व शैक्षणिक प्रावधान किए गए हैं। आरक्षण की भी व्यवस्था की गई है। पिछड़ा वर्ग परिभाषा पिछड़ा वर्ग की कोई स्पष्ट परिभाषा नहीं दी गई है बल्कि उनका आशय ही केवल स्पष्ट किया गया है। पिछड़ा वर्ग की व्याख्या …

पिछड़ा वर्ग समस्या समाधान सुझाव Read More »

Sarkari Focus

अल्पसंख्यक कल्याण कार्यक्रम

अल्पसंख्यक कल्याण कार्यक्रम – धार्मिक एवं भाषाई अल्पसंख्यकों की समस्याओं के समाधान हेतु सरकार ने अनेक प्रयास किए हैं। अल्पसंख्यकों के हितों की रक्षा के लिए अनेक प्रावधान किए गए हैं। संविधान के अनुच्छेद 14, 15 एवं 16 में कानून के समक्ष समानता एवं विधि के समान संरक्षण का आश्वासन दिया गया है। किसी भी व्यक्ति के साथ धर्म, जाति, मूल, वंश आदि के आधार पर भेदभाव नहीं किया जाएगा। अनुच्छेद 16 में सार्वजनिक सेवाओं में समान अवसर देने का प्रावधान है। अनुच्छेद 25 में प्रत्येक व्यक्ति को किसी भी धर्म को स्वीकार करके उसका प्रचार करने की छूट दी गई है। अनुच्छेद 26 में धार्मिक मामलों का प्रबंध करने, अनुच्छेद 27 में धर्म का प्रचार प्रसार हेतु व कर …

अल्पसंख्यक कल्याण कार्यक्रम Read More »

Sarkari Focus