सामान्य ज्ञान

एशिया और विश्व में भारत

भारत का प्राचीन नाम आर्यावर्त है। वर्तमान में इसे इंडिया या भारत कहा जाता है। भारत की आकृति चतुष्कोणीय है। यह दक्षिण मध्य एशिया में स्थित है। इसके पूर्व इंडोचीन प्रायद्वीप तथा पश्चिम में अरब प्रायद्वीप स्थित है। भारत अक्षांशीय दृष्टि से उत्तरी गोलार्ध का देश है संपूर्ण भारत लगभग मानसूनी जलवायु वाले क्षेत्रों में पाया जाता है। जिसका विस्तार उष्ण तथा उपो षण के दोनों कटिबंधों में है। इसका क्षेत्रफल 32,87,263 वर्ग किलोमीटर है। क्षेत्रफल की दृष्टि से यह विश्व का सातवां बड़ा देश है। अर्थात इसका क्षेत्रफल विश्व के क्षेत्रफल का 2.43 प्रतिशत है। इससे बड़े देश हैं रूस ,कनाडा ,चीन, अमेरिका, ब्राजील तथा आस्ट्रेलिया। इसी प्रकार वर्ष 2011 की जनगणना के अनुसार भारत की कुल जनसंख्या 1,210,133,422 …

एशिया और विश्व में भारत Read More »

विकसित तथा विकासशील देश

वर्तमान विश्व के सभी देशों में आर्थिक विकास का स्तर समान नहीं है। कुछ देश आर्थिक विकास में बहुत प्रगति कर चुके हैं, कुछ देश आर्थिक विकास में बहुत बिछड़ गए हैं, जबकि कुछ देश आर्थिक विकास के उच्च स्तर को प्राप्त करने के लिए निरंतर प्रयासरत हैं। किस देश को विकसित और किस देश को विकासशील नाम से संबोधित किया जाए यह अत्यंत जटिल एवं विवादास्पद प्रश्न है। वास्तव में आर्थिक विकास एक सापेक्षिक शब्द है। आर्थिक विकास की प्रक्रिया सतत रूप से चलती रहती है।प्रत्येक देश अपने संसाधनों का दोहन करके आर्थिक विकास को तीव्र करने की इच्छा रखता है और इस हेतु प्रयास भी करता है। विकास की दौड़ में कुछ राष्ट्र तो आगे निकल जाते हैं …

विकसित तथा विकासशील देश Read More »

विकसित तथा विकासशील देश

चकबंदी

भारतीय कृषि की निम्न उत्पादकता का एक मुख्य कारण भूमि का उपविभाजन एवं अपखंडन है। उप विभाजन से आशय है- भूमि का छोटे-छोटे टुकड़ों में होना तथा अपखंडन का अर्थ है- छोटे-छोटे टुकड़ों का दूर-दूर बिखरा होना। यह समस्या मुख्य रूप से संपत्ति के उत्तराधिकार के नियमों के कारण बंटवारे से आती है; क्योंकि एक व्यक्ति की मृत्यु के पश्चात भूमि को छोटे-छोटे टुकड़ों में उसके सभी बच्चों में बांट दिया जाता है जिससे यह भूमि का टुकड़ा अनार्थिक हो जाता है और इस कारण इस पर कृषि की आधुनिक तकनीक को नहीं अपनाया जा सकता। इसका उपाय भूमि की चकबंदी है। एक ही परिवार के बिखरे हुए खेतों को एक स्थान पर संगठित करना। चकबंदी का अर्थ चकबंदी के …

चकबंदी Read More »

चकबंदी

भारत का भूगोल

यहां स्नातक स्तर पर निर्धारित भारत का भूगोल प्रश्न पत्र की चर्चा की गई है। कुछ विश्वविद्यालयों में यह प्रश्न पत्र प्रथम वर्ष में होता है तथा कई जगह पर यह द्वितीय वर्ष में पूछा जाता है। कई विद्यालयों में भारत का भूगोल प्रश्न पत्र बहुविकल्पीय होता है। तो कई जगह पर इस प्रश्न पत्र में प्रश्नों के उत्तर लिखने होते है। यह कोर्स दोनों ही प्रकार के लोगो के लिए फायदेमंद है। भारत का भूगोल भूगोल विषय से आप परिचित है होंगे। भूगोल विषय की मुख्यता 3 शाखाएं है। भौतिक भूगोल मानव भूगोल आर्थिक भूगोल यहां भारत के भूगोल में सिर्फ भारत के बारे में ही पढ़ना है। भारत का भौतिक भूगोल भारत का मानव भूगोल भारत का आर्थिक …

भारत का भूगोल Read More »

राज्य का मुख्यमंत्री

जो स्थित केंद्र में प्रधानमंत्री की होती है, ठीक वही स्थित राज्य में मुख्यमंत्री की होती है। वह राज्य मंत्री परिषद का प्रधान होता है। उसकी नियुक्त भारतीय संविधान के अनुच्छेद 163 (1) के अंतर्गत राज्य का राज्यपाल करता है। विधानसभा में जिस राजनीतिक दल का बहुमत होता है,उसके नेता को राज्यपाल द्वारा यह नियुक्त किया जाता है। इस प्रकार बहुमत प्राप्त दल का नेता ही मुख्यमंत्री बनता है। कभी-कभी ऐसा भी होता है कि विधानसभा में किसी भी राजनीतिक दल का स्पष्ट बहुमत नहीं होता तब ऐसी स्थिति में राज्यपाल किसी भी ऐसे दल के नेता को मुख्यमंत्री नियुक्त कर सकता है, जो विधानसभा में अपना बहुमत सिद्ध करने में सक्षम हो। तत्पश्चात वह मुख्यमंत्री के परामर्श से अन्य …

राज्य का मुख्यमंत्री Read More »

भारत का प्रधानमंत्री

ब्रिटिश संविधान में प्रधानमंत्री का पद परंपरा पर आधारित है, परंतु भारत का प्रधानमंत्री के पद को संविधान द्वारा मान्यता प्रदान की गई है। भारतीय प्रशासन में प्रधानमंत्री को बहुत महत्वपूर्ण स्थान प्राप्त है।भारतीय संविधान में कार्यपालिका शक्ति राष्ट्रपति में निहित करते हुए कहा गया है कि राष्ट्रपति अपनी समस्त शक्तियों का प्रयोग मंत्रिपरिषद के परामर्श से करता है। इस प्रकार व्यवहार में सभी कार्यपालिका शक्तियों का उपभोग मंत्रिपरिषद के माध्यम से प्रधानमंत्री ही करता है। वह सत्ताधारी दल का नेता होता है तथा सरकार का प्रमुख होता है। प्रथम प्रधानमंत्री- जवाहरलाल नेहरू प्रथम महिला प्रधानमंत्री- श्रीमती इंदिरा गांधी प्रथम गैर कांग्रेसी प्रधानमंत्री- श्री मोरारजी देसाई लोकसभा का सामना न करने वाले प्रधानमंत्री- चौधरी चरण सिंह अविश्वास प्रस्ताव द्वारा हटाए …

भारत का प्रधानमंत्री Read More »

narendra modi, modi, indian prime minister

भारत का राष्ट्रपति

भारतीय संविधान के अनुच्छेद 52 के अनुसार भारत का एक राष्ट्रपति होगा। भारत द्वारा अपनाई गई संसदीय शासन प्रणाली में एक सरकार के समाप्त होने पर दूसरी सरकार बनने में कुछ समय लगता है। इस अंतराल के लिए कार्यपालिका के संवैधानिक प्रधान के रूप में राष्ट्रपति का पद अनिवार्य है। इस प्रकार राष्ट्रपति हमारे देश की शासन व्यवस्था का एक अनिवार्य अंग है। संघीय सरकार के समस्त कार्य राष्ट्रपति के नाम से ही संपादित होते हैं। वास्तव में वह देश के शासन का संचालन नहीं करता, उसे जो शक्तियां प्राप्त है, व्यवहार में उनका प्रयोग संघीय मंत्रिपरिषद ही करती है। संविधान के अनुच्छेद 53 के अनुसार संघ की कार्यपालिका शक्ति राष्ट्रपति में निहित होगी तथा वास का संविधान के अनुसार …

भारत का राष्ट्रपति Read More »

भारत का राष्ट्रपति

राज्यसभा की रचना (संगठन)

राज्यसभा संसद का द्वितीय और उच्च सदन है। राज्यसभा की रचना संघीय शासन व्यवस्था के सिद्धांत के अनुसार किया गया है। इस सदन को लोकसभा की तुलना में कम शक्तियां प्राप्त है, परंतु फिर भी इसे सदन का अपना महत्व है। राज्यसभा के संगठन से संबंधित विवरण निम्न वत है- सदस्य संख्या- संविधान के अनुच्छेद 80 द्वारा राज्य सभा के सदस्यों की अधिकतम संख्या 250 निश्चित की गई है जिनमें से 238 सदस्यों को भारतीय संघ के इकाई राज्यों एवं संघ शासित क्षेत्र से निर्वाचित होने और शेष 12 सदस्यों को राष्ट्रपति द्वारा मनोनीत किए जाने की व्यवस्था की है। सदस्यों की योग्यताएं- राज्यसभा की सदस्यता के उम्मीदवार के लिए संविधान के अनुच्छेद 102 के द्वारा वही योग्यताएं निर्धारित की …

राज्यसभा की रचना (संगठन) Read More »