हिंदी

सन्धि एवं सन्धि विच्छेद

दो वर्णों के मेल से उत्पन्न विकार को व्याकरण में सन्धि कहते हैं। दिए गए शब्द को सन्धि विच्छेद के नियमों की सहायता से अलग अलग करना सन्धि विच्छेद कहलाता है। सन्धि दो वर्णों के मेल से उत्पन्न विकार को व्याकरण में सन्धि कहते हैं। दूसरे शब्दों में दो निर्दिष्ट अक्षरों के पास- पास आने के कारण उनके सहयोग से जो विकार उत्पन्न होता है, उसे सन्धि कहते हैं । जैसे – विद्या+ आलय= विद्यालय विद्यालय में धा में आ मिल जाने से एक दीर्घ आ हो गया है। सन्धि विच्छेद जो शब्द संधि से बने हैं , उनके खंडों को अपने पूर्व रूप में रखना अथवा संधि को तोड़ना संधि विच्छेद कहलाता है; जैसे- कवीन्द्र= कवि + इंद्र (इ+इ) …

सन्धि एवं सन्धि विच्छेद Read More »

हिंदी के विराम चिन्ह

विराम का अर्थ है, ठहराव या रुकना। हिंदी के विराम चिन्ह, जिस तरह हम काम करते समय बीच-बीच में रुकते और फिर आगे बढ़ते हैं वैसे ही लेखन में भी विराम की आवश्यकता होती है, अतः पाठक के मनोविज्ञान को ध्यान में रखते हुए भाषा में विरामों का उपयोग आवश्यक है। उदाहरण : मोहन पढ़ रहा है । (सामान्य सूचना)उदाहरण : ताजमहल किसने बनवाया ? (प्रश्नवाचक)उदाहरण : श्याम आया है ! (आश्चर्य का भाव) विराम चिन्हों के भेद श्री कामता प्रसाद गुरु जी ने विराम चिन्हों को अंग्रेजी से लिया हुआ मानते हैं ।वह पूर्ण विराम को छोड़ शेष सभी विराम चिन्हों को अंग्रेजी से संबंध करते हैं।श्री कामता प्रसाद गुरु ने विराम चिन्ह 20 बताए हैं, यह है- अल्पविराम ( , ) …

हिंदी के विराम चिन्ह Read More »

हिंदी वर्णमाला

प्रत्येक भाषा की तरह हिंदी भाषा में भी वर्णो की एक लिस्ट है। वैसे तो भारत में अनेक भाषाए बोली जाती है लेकिन हिंदी भाषा को सबसे अधिक बोला जाता है। हिंदी वर्णमाला के बारे में स्वर व व्यंजन के बारे में और अधिक जानेंगे। हिंदी वर्णमाला वर्णों के समुदाय को ही वर्णमाला कहते हैं। हिंदी वर्णमाला में 52 वर्ण होते है। उच्चारण और प्रयोग के आधार पर हिंदी वर्णमाला के दो भाग किये गए है- स्वर (vowel) व्यंजन (consonant) स्वर (vowel) जिन वर्णो का उच्चारण बिना किसी अवरोध के तथा बिना किसी दूसरे वर्ण की सहायता से होता है, उन्हें स्वर कहते है।। स्वर की संख्या 11 होती है- अ, आ, इ, ई, उ, ऊ, ए, ऐ, ओ, औ, …

हिंदी वर्णमाला Read More »

हिंदी वर्णमाला