हिंदी वर्णमाला

हिंदी वर्णमाला

प्रत्येक भाषा की तरह हिंदी भाषा में भी वर्णो की एक लिस्ट है। वैसे तो भारत में अनेक भाषाए बोली जाती है लेकिन हिंदी भाषा को सबसे अधिक बोला जाता है। हिंदी वर्णमाला के बारे में स्वर व व्यंजन के बारे में और अधिक जानेंगे।

हिंदी वर्णमाला

वर्णों के समुदाय को ही वर्णमाला कहते हैं। हिंदी वर्णमाला में 52 वर्ण होते है। उच्चारण और प्रयोग के आधार पर हिंदी वर्णमाला के दो भाग किये गए है-

  1. स्वर (vowel)
  2. व्यंजन (consonant)

स्वर (vowel)

जिन वर्णो का उच्चारण बिना किसी अवरोध के तथा बिना किसी दूसरे वर्ण की सहायता से होता है, उन्हें स्वर कहते है।।

स्वर की संख्या 11 होती है-

अ, आ, इ, ई, उ, ऊ, ए, ऐ, ओ, औ, ऋ

स्वर तीन प्रकार के होते है-

  1. ह्रस्व स्वर- अ, इ, उ,ऋ
  2. दीर्घ स्वर- आ,ई,ऊ, ए, ऐ, ओ, औ
  3. प्लुत स्वर- ओउम, राडम

स्वरों का वर्गीकरण

स्वरों को निम्न में वर्गीकृत किया जा सकता है-

  • आगत स्वर- ऑ
  • अग्र स्वर- इ, ई, ए, ऐ
  • मध्य स्वर- अ
  • पश्च स्वर- आ, उ, ऊ, ओ,औ,ऑ
  • संवर्त स्वर- ई, ऊ
  • अर्ध संवर्त- इ, उ
  • विवृत स्वर- आ, ऐ, औ
  • अर्ध विवृत स्वर- ए, अ, ओ, ऑ

स्वर का उच्चारण स्थान

व्यजंन (consonant)

वे ध्वनियां जिनके उच्चारण में फेफड़ों से बाहर निकलने वाली हवा मुख-विवर में अथवा स्वरयंत्र में कही न कही रुककर, अवरोध के साथ बाहर निकलती है, व्यंजन कहलाती है।अर्थात् वे ध्वनिया जिन्हें स्वर की सहायता से बोली जाती है, व्यंजन कहलाती है। व्यंजन से सम्बंधित तथ्य निम्न है-

  • व्यंजनों की संख्या 41 है।
  • स्पर्श व्यंजनों की संख्या- 27
  • अंतस्थ व्यंजनों की संख्या- 4 ( य,र,ल, व)
  • ऊष्म व्यंजनों की संख्या- 4 ( श, ष, स, ह)
  • सयुक्त व्यंजन की संख्या- 4 (क्ष, त्र, ज्ञ, श्र)
  • आगत व्यंजनों की संख्या- 2 (ज़, फ़)
  • अर्धस्वर- य, व
  • लुंठित या प्रकम्पित व्यंजन- र
  • पार्श्विक व्यंजन- ल
  • कंठ व्यंजन- क , ख , ग , घ , ङ
  • तालव्य व्यंजन- च , छ , ज , झ , ञ , श , य
  • मूर्द्धन्य व्यंजन- ट , ठ , ड , ढ , ण , ष
  • दंत व्यंजन- त , थ , द , ध , न
  • ओष्ठ्य व्यंजन- प , फ , ब , भ , म
  • नासिक्य व्यंजन- ङ , ञ , ण , न , म
  • स्वर्यान्त्रीय व्यंजन- ह

व्यंजनों का उच्चारण स्थान

Sarkarifocus

Related Articles

आधुनिक हिन्दी काव्य

Contents आधुनिक हिन्दी काव्यआधुनिक हिन्दी काव्य Unit 11. साकेत अष्टम सर्ग2. कामायनी श्रद्धा सर्ग3. सरोज स्मृति4. सुमित्रानंदन पंत कविताए और व्याख्या5. महादेवी वर्मा कविताए और…

गणित शिक्षण के मूल्य

Contents गणित शिक्षण के मूल्य1. बौद्धिक मूल्य2. प्रयोगात्मक मूल्य3. अनुशासन संबंधी मूल्य4. नैतिक मूल्य5. सामाजिक मूल्य6. सांस्कृतिक मूल्य7. कलात्मक मूल्य8. जीविकोपार्जन संबंधी मूल्य9. मनोवैज्ञानिक मूल्य10.…

Responses

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.